Home » राजनीति » AAP alleges, Amit Shah protecting corrup leaders
 

AAP: भ्रष्टाचारियों को अमित शाह का संरक्षण

कैच ब्यूरो | Updated on: 19 August 2017, 13:08 IST
ट्विटर

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह तीन दिनी दौरे पर यहां शुक्रवार की सुबह पहुंचे और पेड न्यूज के मामले में निर्वाचन आयोग द्वारा अयोग्य ठहराए गए मंत्री नरोत्तम मिश्रा के निवास पर जाकर भोजन किया.

शाह के मिश्रा का आतिथ्य स्वीकार करने पर आम आदमी पार्टी (आप) ने हमला बोला. आप ने आरोप लगाया कि भ्रष्टाचारियों को शाह का संरक्षण हासिल है. दिल्ली में सत्तारूढ़ पार्टी के मध्यप्रदेश संयोजक आलोक अग्रवाल ने शुक्रवार को एक बयान जारी कर कहा कि नरोत्तम मिश्रा निर्वाचन आयोग द्वारा पेड न्यूज के सिद्ध आरोपी हैं और ऐसे आरोपी के यहां अमित शाह भोजन करने जाते हैं.

उन्होंने कहा, "नरोत्तम मिश्रा का भ्रष्टाचार साबित होने के बाद अमित शाह को उन्हें बर्खास्त करना चाहिए था, मगर उसके उलट वह नरोत्तम मिश्रा के यहां भोजन कर रहे हैं. इससे स्पष्ट है कि वह भ्रष्टचारियों के साथ हैं और भ्रष्टाचारियों को संरक्षण दे रहे हैं."

आप नेता ने कहा, "नरोत्तम मिश्रा प्रदेश के शिवराज सिंह चौहान मंत्रिमंडल के ऐसे मंत्री हैं, जो विधानसभा नहीं जाते, क्योंकि अयोग्य ठहराए जाने के बाद मिश्रा विधायक नहीं रहे. उन्हें देश की कई अदालतों से भी राहत नहीं मिली है."

अग्रवाल ने यह भी कहा कि अमित शाह जैसे व्यक्ति लोकतंत्र के लिए खतरा हैं. वह जहां जाते हैं, वहां पैसे और सरकार के बल पर अन्य पार्टियों के सांसद और विधायकों की खरीदी करते हैं. इस तरह की राजनीति भारत जैसे लोकतांत्रिक देश के लिए धब्बा है.

उन्होंने कहा, "शाह ने भारतीय राजनीति को न्यूनतम स्तर पर ला दिया है. भोपाल के दौरे पर आए शाह ने शुक्रवार को पार्टी पदाधिकारियों के साथ बैठक की. उन्होंने पार्टी नेताओं को सख्त हिदायत दी कि बैठक की बात बाहर नहीं जानी चाहिए. इसलिए बैठक से निकलने के बाद पत्रकारों के सामने किसी नेता ने मुंह नहीं खोला."

आप नेता ने आगे कहा, "शाह इसके बाद 'नया भारत मंथन' कार्यक्रम में पहुंचे और कहा कि कांग्रेस में आंतरिक लोकतंत्र मर गया है. 34.31 करोड़ की संपत्ति के स्वामी शाह अगले दो दिनों में सत्ता और संगठन के लोगों से संवाद करेंगे. शाह देश के ऐसे अनोखे नेता हैं, जिन्हें गुजरात के गृह राज्यमंत्री रहते जेल जाना पड़ा था और गुजरात उच्च न्यायालय ने उन्हें चार साल के लिए अपने राज्य से बाहर कर दिया था."

First published: 19 August 2017, 13:08 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी