Home » राजनीति » Atishi Marlena said Manish Sisodia has only appeal to vote for AAP in Punjab as Kejriwal is the face of party
 

सिसोदिया के बयान पर आप की सफाई- 'दिल्ली छोड़कर पंजाब नहीं जाएंगे केजरीवाल'

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 January 2017, 11:45 IST

दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया के बयान पर पंजाब चुनाव से पहले सियासत गरमा गई है. इस बीच आम आदमी पार्टी ने कहा है कि मनीष सिसोदिया के बयान को तोड़-मरोड़कर पेश किया जा रहा है.  

दरअसल पंजाब में विधानसभा चुनाव में अगर आम आदमी पार्टी जीतती है तो सीएम कौन बनेगा इस पर कोई साफ जवाब नहीं आया था. मंगलवार को जब सिसोदिया ने कहा कि पंजाब के लोग यह मानकर वोट दें कि सीएम केजरीवाल होंगे, तो कई तरह के कयास लगाए जाने लगे. 

एक सवाल यह भी उठा कि क्या केजरीवाल दिल्ली छोड़कर पंजाब का रुख करेंगे. आप नेता आतिशी मर्लेना ने एक समाचार चैनल से बातचीत में केजरीवाल के दिल्ली छोड़ने की संभावनाओं को खारिज करते हुए कहा कि दिल्ली के सीएम को पंजाब चुनाव का चेहरा बनाने की डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया की टिप्पणी को तोड़-मरोड़कर पेश किया गया. 

आप नेता आतिशी मर्लेना ने कहा, "मनीष सिसोदिया ने कहा अरविंद केजरीवाल को मुख्यमंत्री का उम्मीदवार समझकर वोट दीजिए. उन्होंने यह नहीं कहा कि केजरीवाल ही मुख्यमंत्री होंगे." दरअसल दूसरी बार दिल्ली का सीएम बनने के बाद केजरीवाल ने कहा था कि मैं अब दिल्ली छोड़कर कहीं नहीं जाऊंगा.  

पंजाब के मोहाली में मंगलवार को मनीष सिसोदिया के बयान पर आप ने सफाई दी है. (फाइल फोटो)

मोहाली में सिसोदिया ने दिया था बयान

इससे पहले पंजाब में आप के नेता कहते रहे हैं कि चुनाव जीतने की सूरत में पंजाब का ही कोई शख्स सीएम बनेगा. हालांकि सिसोदिया के बयान के बाद इस पर आप के रुख को लेकर सवाल उठने लगे.

आप के वरिष्ठ नेता और दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने पंजाब के मोहाली में चुनावी रैली के दौरान कहा कि पंजाब के लोग अरविंद केजरीवाल के चेहरे को देखकर ही वोट करें और यह मानकर चलें कि पंजाब के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल होंगे. 

सिसोदिया ने इस दौरान कहा कि पंजाब का मुख्यमंत्री चाहे कोई भी हो लेकिन पंजाब की जनता को जो वायदे किए गए हैं वह अरविंद केजरीवाल ही पूरे करेंगे.

आप का कहना है, "मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल पंजाब चुनाव में पार्टी का चेहरा हैं, जिसे राज्य के लोग देख रहे हैं, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि चुनाव जीतने पर वही मुख्यमंत्री बनेंगे." गौरतलब है कि पंजाब की 117 विधानसभा सीटों के लिए चार फरवरी को मतदान होगा, जबकि वोटों की गिनती 11 मार्च को होगी.

First published: 11 January 2017, 11:45 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी