Home » राजनीति » AAP compromise: Kumar Vishwas to be Rajasthan Chief Amanatullah Khan suspended from AAP
 

कुमार विश्वास को ताज, अमानतुल्लाह पर गाज

कैच ब्यूरो | Updated on: 3 May 2017, 16:04 IST

आम आदमी पार्टी में कुमार विश्वास को लेकर चल रहा संकट सुलझता दिख रहा है. आम आदमी पार्टी की पॉलिटिकल अफेयर्स कमिटी (पीएसी) की बैठक के बाद मीडिया से बातचीत में कुमार विश्वास के तेवर बदले-बदले नज़र आए. 

इस दौरान कुमार विश्वास ने कहा कि पार्टी में कमियों को लेकर विचार-विमर्श का दौर जारी रहेगा और जिस तरह से वो पहले मुद्दों को उठाते रहे हैं, उसी तरह आगे भी पार्टी में मंथन चलता रहेगा. कुमार विश्वास ने कहा कि पार्टी से कोई नाराजगी नहीं है. इसके बाद कुमार विश्वास ने दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया की तरफ माइक बढ़ाते हुए कहा कि अहम फैसलों के बारे में वे जानकारी देंगे.

अमानतुल्लाह खान AAP से निलंबित    

मनीष सिसोदिया ने इस दौरान बताया कि बेवजह बयानबाजी से पार्टी की छवि को नुकसान पहुंचा है और कुमार विश्वास पर बयान देने वाले ओखला से आप विधायक अमानतुल्लाह खान पर अनुशासनात्मक कार्रवाई करते हुए उन्हें पार्टी से निलंबित करने का फैसला लिया गया है. 

गौरतलब है कि अमानतुल्लाह खान ने आरोप लगाया था कि कुमार विश्वास आम आदमी पार्टी को तोड़ने की साजिश रच रहे हैं. इस मामले की जांच के लिए पार्टी ने एक कमेटी भी गठित की है.

अमानतुल्लाह खान को आम आदमी पार्टी से निलंबित कर दिया गया है. (फाइल फोटो)

कुमार विश्वास बने राजस्थान प्रभारी

इस दौरान डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने कुमार विश्वास को लेकर बड़ा एलान किया. सिसोदिया ने कहा कि राजस्थान में इसी साल विधानसभा चुनाव होने हैं, लिहाजा पार्टी ने कुमार विश्वास को राजस्थान चुनाव में आप का प्रभारी नियुक्त करने का फैसला लिया है. 

कुमार विॆश्वास ने मीडिया से बातचीत में कहा कि पार्टी नेताओं की बैठक में इस बात पर सहमति बनी कि तीन मुद्दों भ्रष्टाचार, राष्ट्रवाद और कार्यकर्ता के मुद्दे पर कोई समझौता नहीं किया जाएगा.

कुमार विश्वास ने कहा कि मैंने पहले ही कहा था कि मुझे मुख्यमंत्री, डिप्टी सीएम और संयोजक का पद नहीं चाहिए और मैं अपनी इस बात पर कायम हूं. साथ ही कुमार विश्वास ने इस दौरान निलंबित विधायक अमानतुल्लाह खान पर निशाना साधते हुए कहा कि अनुशासनहीनता को किसी सूरत में बर्दाश्त नहीं किया जाएगा.

फाइल फोटो

क्या था पूरा विवाद?

दरअसल एमसीडी चुनाव में हार के बाद से आम आदमी पार्टी में सब कुछ ठीक नहीं चल रहा है. कुमार विश्वास ने कहा था कि जनता से संवाद न कर पाने और पार्टी में कमियों की वजह से हार हुई, जबकि आप के शीर्ष नेता दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल और डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया ने कहा था कि ईवीएम की वजह से पार्टी चुनाव हारी.

कुमार विश्वास ने ये भी कहा था कि सर्जिकल स्ट्राइक पर सबूत मांगते हुए पीएम मोदी पर निशाना साधना ग़लत था. इसके बाद आप के ओखला विधायक अमानतुल्लाह खान ने कुमार विश्वास पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि वे पार्टी को तोड़ने की साजिश रच रहे हैं. अमानतुल्लाह ने आरोप लगाया कि एक आप विधायक को 30-30 करोड़ का लालच देकर भाजपा में शामिल कराए जाने का ऑफर मिल रहा है.

इसके बाद कुमार विश्वास आम आदमी पार्टी की राजनैतिक मामलों की समिति (पीएसी) की बैठक में नहीं शामिल हुए थे. आप ने अमानतुल्लाह को उनके बयान के बाद पीएसी से हटा दिया था. हालांकि कुमार विश्वास कह रहे हैं कि अमानतुल्लाह तो महज एक चेहरा हैं, उनके पीछे साजिश किसी और की है. मंगलवार रात को केजरीवाल, मनीष सिसोदिया और संजय सिंह ने कुमार विश्वास को मनाने की भी कोशिश की.

फाइल फोटो
First published: 3 May 2017, 14:33 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी