Home » राजनीति » Air India lifts ban on Shiv Sena MP Ravindra Gaikwad
 

हवाई यात्रा कर सकेंगे शिवसेना सांसद गायकवाड़, एयर इंडिया ने हटाया बैन

कैच ब्यूरो | Updated on: 7 April 2017, 16:41 IST

एयर इंडिया ने शिवसेना सांसद रवींद्र गायकवाड़ की हवाई यात्रा पर लगे बैैन को हटा लिया है. महाराष्ट्र के उस्मानाबाद से शिवसेना सांसद गायकवाड़ पर एयर इंडिया कर्मचारी से मारपीट के बाद प्रतिबंध लगाया गया था. खबर है कि नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने एयर इंडिया को खत लिखकर बैन हटाने के लिए कहा था.

एयर इंडिया ने रवींद्र गायकवाड़ के दिल्ली से मुंबई के लिए बुक किए 17 और 24 अप्रैल के टिकट रद्द कर दिए थे. एयर इंडिया का कहना है कि छह अप्रैल को नागरिक उड्डयन मंत्री अशोक गजपति राजू को लिखे खत में दुर्भाग्यपूर्ण घटना के लिए गायकवाड़ ने माफी मांगी है. 

शुक्रवार को ऑल इंडिया केबिन क्रू एसोसिएशन (एआईसीसीए) ने हालांकि चिट्ठी लिखकर बैन हटाने का विरोध किया था. इस बीच एयर इंडिया के बैन हटाने के बाद बाकी प्राइवेट विमानन कंपनियां भी शिवसेना सांसद पर लगा प्रतिबंध हटा सकती हैं. 

पढ़ें: शिवसेना सांसद ने कर दी Air India स्टाफ की चप्पलों से पिटाई, दो एफआईआर दर्ज

 

23 मार्च की घटना के लिए जताया खेद

एआईसीसीए ने अपने खत में लिखा है कि गायकवाड़ विमानों में सुरक्षा को लेकर खतरा हैं और बने रहेंगे. लिहाजा मंत्रालय को उन्हें तब तक विमान में सवार होने की इजाजत नहीं देनी चाहिए. साथ ही उन्हें तब तक विमान यात्रा की अनुमति नहीं मिलनी चाहिए, जब तक वो बिन शर्त माफी नहीं मांगते. 

पढ़ें: 'माननीय' को महंगा पड़ा चप्पल चलाना, एयर इंडिया के बाद इंडिगो ने भी रद्द किया टिकट

इससे पहले गुरुवार को शिवसेना सांसदों ने इस मसले पर हंगामा मचाया था. इस दौरान नागरिक उड्डयन मंत्री के साथ शिवसेना के अनंत गीते के अलावा बाकी सांसदों ने धक्का-मुक्की भी की थी. शिवसेना सांसदों ने धमकी दी थी कि मुंबई से किसी विमान को उड़ान नहीं भरने दिया जाएगा. 

'भविष्य में नहीं होगा ऐसा'

लोकसभा स्पीकर  सुमित्रा महाजन ने इस मुद्दे पर बैठक भी बुलाई थी. गायकवाड़ ने अपने पत्र में लिखा, "मैं यह पत्र 23 मार्च 2017 को एयर इंडिया उड़ान संख्या एआई 852 सीट नंबर 1एफ पर हुई दुर्भाग्यपूर्ण घटना पर खेद जताने के लिए लिख रहा हूं." 

पढ़ें: रवींद्र गायकवाड़ के समर्थन में शिवसेना, दी एनडीए की बैठक के बहिष्कार की धमकी

खत में आगे उन्होंने लिखा, "यह किसी का इरादा नहीं हो सकता कि स्थिति उस स्तर तक बढ़ जाए जैसा कि आखिर में हुआ. जांच के बाद जिम्मेदारी तय करने के लिए वास्तविक घटनाक्रम सामने आएगा. कृपा करके इस घटना को भविष्य में ऐसी किसी संभावित पुनरावृत्ति के कारण के तौर पर नहीं देखा जाए."

First published: 7 April 2017, 16:30 IST
 
अगली कहानी