Home » राजनीति » Arvind Kejriwal challenges EC: Give me EVM's for 72 hours
 

'चुनाव आयोग 72 घंटे के लिए EVM हमें दे दे बता देंगे क्या-क्या हुआ'

कैच ब्यूरो | Updated on: 3 April 2017, 18:15 IST
(सांकेतिक तस्वीर)

ईवीएम में कथित गड़बड़ी को लेकर दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने चुनाव आयोग को चुनौती दी है. केजरीवाल ने चुनाव आयोग को चिट्ठी लिखकर चुनौती देते हुए कहा, "आप कहते हैं कि आपकी ईवीएम को कोई रीड और री-राइट नहीं कर सकता. आप हमें 72 घंटे के लिए मशीन दे दें हम बता देंगे इसमें क्या-क्या हुआ है. राजौरी गार्डन में भी वोटर वेरीफाइड पेपर ऑडिट ट्रेल (वीवीपैट) मशीन यूपी से मंगाई जा रही है."

आप के संयोजक केजरीवाल ने मांग की है कि बैलेट पेपर के जरिए चुनाव कराए जाएं. दरअसल विवाद ने उस वक्त ज़ोर पकड़ा था, जब डेमो के दौरान ईवीएम से बीजेपी को वोट देने वाली वीवीपैट पर्ची निकलने लगी.  

'कुछ ईवीएम मशीनों से छेड़छाड़'

दिल्ली के सीएम केजरीवाल ने कहा, "यूपी चुनाव के दौरान ईवीएम मशीनों में गड़बड़ी की गई. एमपी के चुनाव के लिए यूपी के बंदे का नाम कैसे निकला. ये मशीन यूपी के कानपुर के गोविंदनगर से आई. कानूनन आप 45 दिन तक उन मशीनों का इस्तेमाल नहीं कर सकते. फिर चुनाव आयोग ने कानून की धज्जियां क्यों उड़ाईं. यूपी के चुनाव में भी ऐसी कई मशीनें हो सकती हैं, जो खराब हों. ऐसा लगता है सारी मशीनें टैंपर नहीं हैं, कुछ से छेड़छाड़ की जा रही है."

केजरीवाल ने साथ ही मांग की है कि जो मशीन भिंड में पकड़ी गई है इसकी सारी जानकारी चुनाव आयोग सार्वजनिक करे. केजरीवाल ने पंजाब में हार पर आत्मचिंतन की चुनाव आयोग की नसीहत पर निशाना साधते हुए कहा, "इस राजनीतिक सलाह का धन्यवाद. हम सोच रहे हैं उन्हें अपनी पीएसी में शामिल कर लें." 

बैलट पेपर से चुनाव कराने की मांग

कांग्रेस और आम आदमी पार्टी (आप) ने मध्य प्रदेश में वोटिंग मशीन (ईवीएम) में सामने आई ताज़ा गड़बड़ी को लेकर निर्वाचन आयोग से ईवीएम का इस्तेमाल रोकने और बैलट पेपर के जरिए चुनाव करवाने की मांग की है. आम आदमी पार्टी दिल्ली में इसी महीने होने वाले चुनाव बैलट पेपर से कराने की मांग पर अड़ी है.

एमपी में वीवीपीएटी मशीनों के ट्रायल को लेकर वायरल हुए वीडियो के बाद ईवीएम को लेकर सवाल उठे हैं. दरअसल वीवीपीएटी वे मशीन होती हैं जिससे निकलने वाली पर्ची से पता चलता है कि मतदाता ने किसे वोट दिया. भिंड में इस मशीन से दो अलग-अलग बटन दबाने पर बीजेपी के प्रत्याशी को वोट देने की पर्ची निकली. बसपा सुप्रीमो मायावती पहले ही यूपी चुनाव में धांधली का आरोप लगाते हुए बैलट पेपर से चुनाव कराने की मांग कर चुकी हैं.

First published: 3 April 2017, 18:15 IST
 
अगली कहानी