Home » राजनीति » Assam NRC: Ashwini Choubey and Congress MP Pradip Bhattacharya argue in Parliament
 

Video: मोदी के मंत्री और कांग्रेसी MP संसद के बाहर लड़ते-झगड़ते कैमरे में हुए कैद

कैच ब्यूरो | Updated on: 31 July 2018, 15:17 IST

असम में राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (NRC) का दूसरा ड्राफ्ट जारी होने के बाद 40 लाख लोगों को अवैध नागरिक घोषित कर दिया गया है. इसके बाद संसद में बवाल मच गया है. विपक्षी पार्टियां इस पर भाजपा सरकार द्वारा राजनीतिक लाभ लेने का आरोप लगा रही हैं. वहीं दूसरी तरफ संसद के बाहर भी सांसद लड़ते नजर आ रहे हैं.

इसकी बानगी तब देखने को मिली जब कांग्रेस सांसद प्रदीप भट्टाचार्य और केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे में सदन के बाहर असम मुद्दे को लेकर नोंकझोंक हो गई है. वह एक दूसरे से तीखे अंदाज में झगड़ा करते नजर आए. इस दौरान चौबे ने कहा कि देश के अवैध नागरिकों को बाहर निकाला जाए. वहीं भट्टाचार्य ने कहा कि ये लोग सदन को मिसलीड कर रहे हैं.

बता दें कि इस मुद्दे पर राज्यसभा में चर्चा हुई और जमकर हंगामा हुआ. मुद्दे पर भाजपा अध्‍यक्ष अमित शाह ने कहा कि असम में घुसपैठियों की पहचान करना जरूरी था. उन्होंने कहा कि हमारी सरकार आने से पहले किसी में हिम्‍मत नहीं थी कि घुसपैठियों की पहचान कर सके. उन्‍होंने कहा कि इस मुद्दे को उठाकर क्‍या विपक्ष बांग्‍लादेशी घुसपैठियों को बचाना चाहता है?

पढ़ें- जेल की सजा काट रहे आसाराम की बढ़ीं मुश्किलें, 16 सम्पत्तियां की जाएंगी ध्वस्त

वहीं विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि 40 लाख लोगों की संख्या कम नहीं है. एनआरसी पर सरकार भी व्यक्ति की तरह साबित करे. सरकार हर व्यक्ति को कानूनी सहायता दे, किसी व्यक्ति का शोषण न हो. नागरिकता साबित करने के लिए 16 सूबूत चाहिए, इनमें से 1 भी मिले तो उसे नागरिक मानना चाहिए. उन्होंने कहा कि असम की सरकार हो चाहे केंद्र की सरकार, इसे किसी भी रूप में राजनीति के मुद्दा नहीं बनाना चाहिए.

First published: 31 July 2018, 15:11 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी