Home » राजनीति » assembly election 2018: Congress-BSP pact would have denied BJP 41 seats in Madhya Pradesh polls 2013
 

मध्यप्रदेश: कांग्रेस को मिला मायावती का साथ तो बीजेपी को लग सकता है इतनी सीटों का झटका

कैच ब्यूरो | Updated on: 6 June 2018, 14:19 IST

साल 2013 में कांग्रेस और बीएसपी अगर गठबंधन करके चुनाव लड़ते तो बीजेपी को 41 से ज्यादा सीटों का नुकसान उठाना पड़ सकता था. आंकड़ों पर गौर करें तो मध्यप्रदेश में साल 2013 के विधानसभा चुनावों में कांग्रेस-बीजेपी के वोट शेयर को मिलाने पर बीजेपी को 41 सीटों का नुकसान हो सकता था. इस साल के आखिर में मध्यप्रदेश में विधानसभा के चुनाव होने है. इसमें कांग्रेस बीएसपी गठबंधन पर विचार कर रही है. लेकिन अगर ये दोनों पार्टियां 2013 में साथ आ जाती तो शायद मध्यप्रदेश में तसवीर कुछ अलग होती.

मध्यप्रदेश में  साल 2013 में बीएसपी ने 230 सीटों में से 227 सीटों पर चुनाव लड़ा था. इसमें से उसको 4 सीटो पर जीत हासिल हुई थी. वहीं बीएसपी का वोट शेयर 6.42 फीसदी रहा था. वहीं कांग्रेस और बीजेपी के वोट शेयर में ज्यादा का अंतर नहीं था.

दोनों के वोट शेयर में 8.4 फीसदी का अंतर रहा था. बीजेपी ने 165 सीटों पर जीत हासिल की थी, वहीं कांग्रेस को 58 सीटें मिली थी. इस चुनाव में हर विधानसभा में कांग्रेस और बीएसपी के वोट शेयर मिला दिया जाए तो इन दोनों की सीटों का जोड़ 101 हो रहा है. हालांकि बीजेपी 124 सीटों के साथ बड़ी पार्टी बनी रहेगी.

वहीं छत्तीसगढ़ में इसका बहुत बड़ा अंतर देखने को मिल रहा है. साल 2013 में बीजेपी ने छत्तीसगढ़ में 90 सीटों में से 49 सीटों पर जीत हासिल कर सरकार बनाई थी. वहीं कांग्रेस को 39 सीटें मिली थी. जबकि बीएसपी ने एक सीट जीती थी. वहीं अगर इन दोनों के वोट शेयर को मिला दिया जाता है तो इन दोनों की सीटों की जीत का आंकड़ा 51 हो जाता है. इन दोनों को 11 सीटों को फायदा हो रहा है. ऐसे में बीजेपी का आंकड़ा 51 से घटकर 38 पर पहुंच जाता है. ऐसे में अगर कांग्रेस-बीएसपी दोनों इस साल होने वाले विधानसभा चुनावों में एक साथ लड़ते हैं, बीजेपी को सत्ता से बेदखल कर सकते हैं.

राजस्थान में बीजेपी ने 200 सीटों में से 165 पर जीत हासिल कर सरकार बनाई थी. इस चुनाव में कांग्रेस का बड़ा नुकसान उठाना पड़ा था. कांग्रेस को केवल 21 सीटों पर जीत हासिल हुई थी. वहीं बीएसपी को 3 सीटें मिली थी. राजस्थान में भी अगर कांग्रेस-बीएपसी के वोट शेयर को मिला दिया जाता है तो इन दोनों को 11 सीटों का फायदा होता दिखाई दे रहा है. ऐसे में इस बार अगर ये दोनों पार्टियां साथ आ जाती हैं, तो बीजेपी के लिए मुश्किल हो सकती है. यही वजह है कि कांग्रेस बीएसपी के साथ गठबंधन करने पर विचार कर रही है.

First published: 6 June 2018, 14:19 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी