Home » राजनीति » Bank of Baroda to become larger than ICICI Bank from 1 April
 

1 अप्रैल से ICICI बैंक को पछाड़कर ये होगा देश का तीसरा सबसे बड़ा बैंक, होंगी इतनी शाखाएं

कैच ब्यूरो | Updated on: 3 January 2019, 16:27 IST

देना बैंक और विजया बैंक के कारोबार को चलाने वाला बैंक ऑफ बड़ौदा 1 अप्रैल से आईसीआईसीआई बैंक से बड़ा हो जाएगा. एक अप्रैल को बैंक तीन बड़े बैंकों के मर्जर को पूरा कर लेगा. अभी तक स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (SBI) के 45.85 लाख करोड़ और HDFC बैंक के 15.8 लाख करोड़ रुपये के कारोबार के बाद ICICI बैंक (11.02 लाख करोड ) अब तीसरा सबसे बड़ा वाणिज्यिक बैंक है.

शेयर स्वैप अनुपात के आधार पर मर्ज की गई इकाई का कुल कारोबार 15.4 लाख करोड़ होगा, जो एचडीएफसी बैंक से केवल एक पायदान नीचे है लेकिन आईसीआईसीआई बैंक से ऊपर है. मोतीलाल ओसवाल की एक शोध रिपोर्ट के अनुसार बैंक ऑफ बड़ौदा, विजया बैंक और देना बैंक का विलय देश में तीसरा सबसे बड़ा ऋणदाता 6.9% और 7.4% की हिस्सेदारी हासिल करेगा.

 

यदि कुल एडवांस को ध्यान में रखा जाए, तो एसबीआई में 21.8% बाजार हिस्सेदारी, एचडीएफसी बैंक 8.4% और बैंक ऑफ बड़ौदा की विलय इकाई में 6.9% हिस्सेदारी होगी. आईसीआईसीआई बैंक को 6.1% बाजार हिस्सेदारी के साथ चौथे स्थान रखा जायेगा. शेयर स्वैप अनुपात के अनुसार, शेयरधारकों को विजया बैंक के प्रत्येक 1,000 इक्विटी शेयरों के लिए बैंक ऑफ बड़ौदा के 402 इक्विटी शेयर प्राप्त होंगे. देना बैंक के प्रत्येक 1,000 शेयरों के लिए निवेशकों को बैंक ऑफ बड़ौदा के 110 इक्विटी शेयर प्राप्त होंगे. इस शेयर स्वैप अनुपात के आधार पर विलय की गई इकाई में सरकार की हिस्सेदारी 63.7% से बढ़कर 65.7% हो जाएगी.

बाजार विश्लेषकों के अनुसार विलय किए गए बैंक ऑफ बड़ौदा की अब देश में 9,511 शाखाएं होंगी. जबकि BoB के पास पहले से ही एक व्यापक नेटवर्क है, देना बैंक और विजया बैंक अधिक क्षेत्रीय-केंद्रित बैंक हैं. यह BoB को पश्चिमी, दक्षिणी और उत्तर-पूर्वी क्षेत्रों में अपनी उपस्थिति को मजबूत करने में मदद करेगा. विलय के बाद, राज्य द्वारा संचालित बैंकों की संख्या 21 से घटकर 19 हो जाएगी.

ये भी पढ़ें :दिग्गज अभिनेताओं और निर्माताओं पर इनकम टैक्स की छापेमारी से हड़कंप

First published: 3 January 2019, 16:21 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी