Home » राजनीति » bar council of india chairman manan kumar mishra said unfortunate We've given an opportunity to Rahul Gandhi & political parties to talk abo
 

सुप्रीम कोर्ट जज विवाद: राहुल गांधी और दूसरी पार्टियों को राजनीति ना करने की सलाह

कैच ब्यूरो | Updated on: 14 January 2018, 13:10 IST

सुप्रीम कोर्ट में जजों का विवाद सामने आने के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने न्यायाधीशों द्वारा जतायी गयी चिंता को बेहद महत्वपूर्ण बताते हुए न्यायमूर्ति बी एच लोया की रहस्यमय मौत की जांच की मांग की थी. इसे लेकर अब 'बार काउंसिल ऑफ इंडिया' ने कांग्रेस अध्यक्ष पर निशाना साधा है.

बार काउंसिल ऑफ इंडिया के चेयरमैन मनन कुमार मिश्रा ने कहा कि यह दुखद है कि हमने राहुल गांधी और दूसरे राजनीतिक दलों को न्यायपालिका के बारे में बोलने का मौका दिया है. उन्होंने कहा, ‘मैं राहुल गांधी और दूसरी पार्टियों से अपील करूंगा कि वे इस मामले का राजनीतिकरण ना करें.’

शनिवार को बार काउंसिल ऑफ इंडिया ने एक अहम बैठक की. बार काउंसिल ऑफ इंडिया के चेयरमैन ने कहा कि उन्होंने एकमत से 7 सदस्यों के एक प्रतिनिधिमंडल का गठन किया है. यह प्रतिनिधिमंडल सुप्रीम कोर्ट के जजों से मुलाकात करेगा. बार काउंसिल ने कहा कि वह इस विवाद का जल्द से जल्द समाधान चाहते हैं.

बार काउंसिल ने कहा कि प्रधानमंत्री और कानून मंत्री ने कल ही कह दिया था कि यह न्यायपालिका का अंदरुनी मामला है, और सरकार इसमें शिरकत नहीं करेगी. काउंसिल के मुताबिक यह संस्था सरकार के इस कदम का स्वागत करती है.

गौरतलब है कि मामला सामने आने के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने न्यायाधीशों द्वारा जतायी गयी चिंता को बेहद महत्वपूर्ण बताते हुए न्यायमूर्ति बी एच लोया की रहस्यमय मौत की जांच की मांग की थी.

लोया की मौत 2014 में तब हुई थी जब वह सोहराबुद्दीन शेख मुठभेड़ मामले की सुनवाई कर रहे थे जिसमें भाजपा अध्यक्ष अमित शाह आरोपी थे लेकिन बाद में बरी हो गए.

राहुल गांधी ने कहा था, मुझे लगता है कि चारों न्यायाधीशों ने बेहद महत्वपूर्ण मुद्दे उठाए हैं. उन्होंने कहा कि लोकतंत्र खतरे में है. इन पर गहराई से ध्यान देने की जरूरत है.

लोया की मौत 2014 में तब हुई थी जब वह सोहराबुद्दीन शेख मुठभेड़ मामले की सुनवाई कर रहे थे जिसमें भाजपा अध्यक्ष अमित शाह आरोपी थे लेकिन बाद में बरी हो गए.

राहुल गांधी ने कहा था, मुझे लगता है कि चारों न्यायाधीशों ने बेहद महत्वपूर्ण मुद्दे उठाए हैं. उन्होंने कहा कि लोकतंत्र खतरे में है. इन पर गहराई से ध्यान देने की जरूरत है.

First published: 14 January 2018, 13:03 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी