Home » राजनीति » bar council of india intervenes to supreme court judges dispute chairman manan kumar mishra forms 7 member delegation to mediate and resolve
 

सुप्रीम कोर्ट जज विवाद: बार काउंसिल ऑफ इंडिया भी मैदान में उतरी

कैच ब्यूरो | Updated on: 14 January 2018, 11:58 IST

वकीलों के सर्वोच्च निकाय बार काउन्सिल ऑफ इंडिया (बीसीआई) ने सुप्रीम कोर्ट के मौजूदा संकट पर चर्चा करने के लिए उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीशों से मुलाकात करने के लिए सात सदस्यीय दल का गठन किया है. खबर है कि बार काउंसिल की सात सदस्यीय टीम मुख्य न्यायाधीश दीपक मिश्रा से आज शाम 7.30 बजे मिलेगी.

इस मुद्दे पर बार काउंसिल ने एक प्रस्ताव पारित करते हुए कहा कि शीर्ष अदालत के न्यायाधीशों के संवाददाता सम्मेलन करने से पैदा हुई स्थिति का किसी राजनैतिक दल या नेताओं को अनुचित फायदा नहीं उठाना चाहिए.

शुक्रवार को हुई चार जजों की प्रेस कांन्फ्रेंस के बाद बार काउंसिल ने इस मामले में जजों से मिलने का फैसला किया है. टीम जस्टिस दीपक मिश्रा के अलावा अन्य जजों से मिलकर उनकी राय जानेगी ताकि मतभेदों को जल्दी सुलझाया जा सके. बार काउंसिल के सूत्रों ने कहा कि जजों को फुल कोर्ट मीटिंग बुलानी चाहिए और अगर मुख्‍य न्‍यायाधीश उनकी चिंताओं को दूर करने में सक्षम नहीं हैं तो उन्‍हें राष्‍ट्रपति से संपर्क करना चाहिए.

 

सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन के चेयरमैन मनन कुमार मिश्रा ने कहा, 'हम नहीं चाहते कि ऐसे मामले सार्वजनिक रूप से हल किए जाएं, इसे आतंरिक रूप से ही हल कर लिया जाना चाहिए. कैमरे के सामने जाने से हमारा सिस्‍टम कमजोर ही होगा.' बार एसोसिएशन ने कहा कि मामले पर पूर्ण अदालत को विचार करना चाहिए.

बार काउंसिल के अध्यक्ष एवं वरिष्ठ अधिवक्ता विकास सिंह ने कहा कि पूर्ण अदालत के विचार करने का प्रस्ताव पारित किया गया क्योंकि यह एक ऐसी व्यवस्था है जिसमें शीर्ष अदालत के सभी न्यायाधीशों के बीच अंदरूनी चर्चा होती है और खुले में चर्चा नहीं होती है. सिंह ने कहा कि उच्चतम न्यायालय के चार वरिष्ठ न्यायाधीशों ने संवाददाता सम्मेलन में जो मतभेद बताए और अन्य मतभेद जो समाचार पत्रों में दिखे हैं वे गंभीर चिंता का विषय हैं और उस पर उच्चतम न्यायालय की पूर्ण अदालत को तत्काल विचार करना चाहिए.

गौरतलब है कि शुक्रवार को एक अभूतपूर्व कदम के तहत न्यायमूर्ति चेलमेश्वर, न्यायमूर्ति रंजन गोगोई, न्यायमूर्ति मदन बी लोकुर और न्यायमूर्ति कुरियन जोसेफ ने एक तरह से प्रधान न्यायाधीश के खिलाफ बगावत कर दी थी. उन्होंने मीडिया के सामने आकर मामलों को आवंटित करने समेत कई समस्याएं गिनाईं थीं.

खबर यह भी है कि चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा बगावती तेवर अपनाने वाले चार न्यायाधीशों से आज मुलाकात कर सकते हैं. इनमें से दो न्यायाधीशों ने शनिवार को मुद्दा सुलझाने की ओर इशारा भी किया है. प्रेस कॉन्फ्रेंस करने वाले चार में से तीन जस्टिस राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली से बाहर हैं और आज दोपहर तक उनके यहां वापस आने की संभावना है. 

First published: 14 January 2018, 11:58 IST
 
अगली कहानी