Home » राजनीति » Before 500 and 1000 INR ban, bengal bjp deposited 3 crore in bank
 

नोटबंदी से ठीक पहले बंगाल बीजेपी ने 500-1000 के पुराने नोट से जमा किए 1 करोड़

कैच ब्यूरो | Updated on: 12 November 2016, 14:28 IST
(एजेंसी)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की 500 और 1000 रुपये के चलन से बाहर होने के एलान से ठीक पहले एक राष्ट्रीयकृत बैंक में बंगाल बीजेपी ने एक हजार और पांच सौ के पुराने नोट के जरिए एक करोड़ रुपये जमा कराए हैं. स्वराज अभियान के नेता प्रशांत भूषण ने इसको लेकर बीजेपी पर सवाल उठाए हैं.

कुल तीन करोड़ रुपये की रकम चार बार जमा कराई गई. खास बात यह है कि आठ नवंबर को पीएम मोदी के एलान से चंद घंटे पहले भी 40 लाख रुपये जमा कराए गए.  

सोशल मीडिया पर यह खबर आने के बाद अब मामले ने तूल पकड़ लिया है. बंगाल बीजेपी के इस खाते में आखिरी ट्रांजैक्शन 40 लाख रुपये का है, जो प्रधानमंत्री के भाषण से कुछ समय पहले किया गया है.

अब इसे सुखद संयोग भी कहा जा सकता है कि पुराने नोट बंद होने से ठीक पहले बीजेपी की ओर से यह पैसा बैंक में जमा कराया गया. हालांकि इसको शक के तौर पर भी देखा जा रहा है.

प्रशांत भूषण ने ट्वीट में बैंक स्टेटमेंट की तस्वीर जारी करते हुए लिखा, "यह पश्चिम बंगाल बीजेपी का कोलकाता में इंडियन बैंक की सेंट्रल एवेन्यू शाखा का अकाउंट है, जहां पीएम मोदी के भाषण से चंद घंटे पहले एक करोड़ का कैश डिपॉजिट एक हजार के पुराने नोट के जरिए किया गया!"

इंडियन बैंक ने की पुष्टि

अंग्रेजी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया में बीजेपी की आधिकारिक प्रतिक्रिया छपी है, जिसके मुताबिक बीजेपी का कहना है कि इन दोनों घटनाक्रमों को एक साथ जोड़कर न देखा जाए.

हालांकि इस खुलासे के बाद बंगाल में सत्ताधारी तृणमूल सरकार समेत वाम और कांग्रेस पार्टियों ने बीजेपी के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है. पश्चिम बंगाल में 19 नवंबर को विधानसभा की एक सीट पर उपचुनाव और लोकसभा की दो सीटों पर चुनाव होना है.

4 बार में 3 करोड़ जमा कराए

इंडियन बैंक के सेंट्रल एवेन्यू ब्रांच ने पैसा जमा होने की पुष्टि भी की है. बैंक ने बताया कि ये 3 करोड़ रुपये चार बार में जमा कराए गए हैं.

कम्युनिस्ट पार्टी के मुखपत्र गणशक्ति में शुक्रवार को छपी एक रिपोर्ट के मुताबिक बीजेपी ने 8 नवंबर को 60 लाख रुपये जमा कराए और उसके बाद 40 लाख रुपये जमा कराए. इस लेनदेन में 500 और 1,000 के नोट का इस्तेमाल किया गया.

रात 8 बजे जमा किए 40 लाख

इस लेनदेन में पहली बार पश्चिम बंगाल भारतीय जनता पार्टी के नाम से बचत खाता संख्या 554510034 में रुपये जमा कराए गए. इसके बाद उसी दिन शाम को 8 बजे के करीब दूसरी बार पैसे जमा कराए गए. हालांकि यह पता नहीं चल पाया है कि उस दिन शाम के 8 बजे तक बैंक कैसे खुला रहा.

'गणशक्ति' की रिपोर्ट के मुताबिक बीजेपी की स्टेट यूनिट की ओर से चलाए जा रहे एक दूसरे चालू खाता में 1 नवंबर को 75 लाख रुपये और 5 नवंबर को 1.25 करोड़ रुपए जमा कराए गए.

इस मामले में सीपीएम के स्टेट सेक्रेटरी सूरजय कांत मिश्रा ने कहा, "यह संभव है कि बीजेपी सदस्यों को नोटबंदी के बारे में पहले से पता हो, इसके बाद ही उन्होंने बैंक खातों में इतनी बड़ी राशि जमा कराई है. ताकि अपने कालेधन को सफेद कर सकें."

First published: 12 November 2016, 14:28 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी