Home » राजनीति » BJP minister says we stay at dalit house even when the mosquito bite us
 

दलित डिनर पर योगी सरकार की मंत्री का बयान- मच्छर काटने के बाद भी जाते है खाना खाने

कैच ब्यूरो | Updated on: 4 May 2018, 14:22 IST

बीजेपी के नेता आजकल 'दलित डिनर' की पॉलिटिक्स खेलने में लगे हुए हैं. बीजेपी चुनावी माहौल को देखते हुए दलितों के साथ सामंजस्य बनाने की कोशिश करती नजर आ रही है. बीते वक़्त में हुए SC/ST एक्ट में अमेंडमेंट को लेकर हुए बवाल के बाद बीजेपी अब दलितों को मनाने में लगी है. ऐसे में केंद्र के बड़े नेताओं से लेकर बीजेपी के बाकि नेता भी दलितों के घर जाकर खाना खा रहे हैं. ऐसे वक़्त में इसी के साथ नेताओ के बयां से बीजेपी की ये मंशा खटाई में पड़ती दिख रही है.

ये भी पढ़ें- जबसे PM मोदी की आलोचना की है बॉलीवुड ने रोल देना बंद कर दिया : प्रकाश राज

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने मंत्रियों, सांसदों और विधायकों को दलितों के घर जाने का निर्देश दिया था, जिसके बाद कई भाजपा के नेता दलितों के घर गए. लेकिन दलितों के घर जाने के बाद भाजपा नेताओं ने कई बयान दिए, जो विवाद की वजह बन गए. अब योगी सरकार में मंत्री अनुपमा जायसवाल ने विवादित बयान दिया. मंत्री अनुपमा का कहना था कि कि मच्छर काटने के बावजूद भी भाजपा के नेता दलितों के घर जा रहे हैं. इस बयान के बाद विपक्ष ने भाजपा पर निशाना साधा है.

योगी सरकार में मंत्री अनुपमा जायसवाल ने कहा कि 'गरीबों, दलितों के लाभ को लेकर नीतियां बनाई जा रही हैं और योजनाओं का लाभ मिल भी रहा है. इसके लिए सरकार के मंत्री रातभर दलितों के घर जाते हैं और उन्हें मच्छर काट रहे हैं. मच्छर काटने के बावजूद दलितों के घर रुकते हैं. सबसे बड़ी बात है कि सब प्रसन्नता महसूस कर रहे है.'

ऐसा पहली बार नहीं है जब दलितों के घर जाने को लेकर भाजपा के किसी मंत्री ने विवादित बयान दिया हो, इससे पहले योगी सरकार में मंत्री राजेंद्र प्रताप ने खुद की तुलना भगवान राम के साथ की थी. राजेंद्र प्रताप ने कहा कि'राम ने भी शबरी के झूठे बेर खाए थे.

ये भी पढ़ें- कसौली मर्डर केस: हत्यारा बोला- मां ने पैर छूकर मांगी थी मोहलत, वो नहीं मानी तो मार दी गोली

मंत्री राजेंद्र प्रताप ने कहा कि , 'भगवान राम और शबरी का संवाद रामायण में है. आज जब ज्ञानजी की मां ने मुझे रोटी परोसी तो उन्होंने कहा मेरा उद्धार हो गया. किसी राजा के यहां भोजन किया होता तो शायद उनकी मां ने ये न कहा होता."

ये भी पढ़ें- कर्नाटक: PM मोदी की टिप्पणी पर बोले राहुल- वो हमारे प्रधानमंत्री, नहीं करूंगा निजी हमले

मंत्री सुरेश राणा की भी हुई थी आलोचना
इससे पहले यूपी सरकार के गन्ना विकास व जिला प्रभारी मंत्री सुरेश राणा ने भी दलित परिवार के साथ खाना खाया था. लेकिन मंत्री जी इस पर काफी आलोचना हुई, वजह थी उन्होंने हलवाइयों द्वारा बनाए गए पालक पनीर, मखनी दाल, छोला, बेहतरीन रायता, तंदूर, कॉफी, रसगुल्ला और मिनरल वाटर लुफ्त उठाया.

First published: 4 May 2018, 14:22 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी