Home » राजनीति » Bjp mp varun gandhi may join congress after rahul gandhi make president on december
 

राहुल गांधी के अध्यक्ष बनने के बाद कांग्रेस में शामिल होंगे वरुण गांधी!

कैच ब्यूरो | Updated on: 28 November 2017, 11:11 IST

कांग्रेस पार्टी में एकतरफ कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी को पार्टी की कमान सौंपने की तैयारी जोर-शोर से चल रही है. राहुल के पद संभालने के बाद कांग्रेस में एक तरफ कार्यकर्ताओं में उत्साह बढ़ने की बात पार्टी के रणनीतिकार कह रहे हैं. वहीं खुद राहुल गांधी अध्यक्ष पद संभालने के बाद कुछ बड़े फैसले ले सकते हैं.

राहुल गांधी की ताजपोशी के बाद भाजपा सांसद वरुण गांधी के कांग्रेस ज्वाइन करने की बात मीडिया रिपोट्स में सामने आ रही है. गौरतलब है कि वरुण गांधी राहुल के चचेरे भाई है. वरुण गांधी को भाजपा में वो तवज्जो नहीं मिल रही है जो वो और उनके समर्थक चाहते हैं. यूपी चुनाव से पहले वरुण को सीएम पद के तौर पर प्रोजेक्ट करने की बात भी मीडिया में आई थी पर उन्हें चुनावों में उनकी भूमिका बेहद सीमित कर दी गई. सूत्रों के मुताबिक खुद वरुण गांधी इस वजह से बेहद नाराज हैं. 

आगरा के एक स्थानीय नेता का मानना है कि वरुण गांधी यूपी में मुख्यमंत्री उम्मीदवार के तौर सबसे ज्यादा लायक थे लेकिन पार्टी द्वारा उन्हें पूरी तरह से नजरअंदाज कर दिया गया.

इंडिया टुडे से बातचीत के दौरान कांग्रेस के वरिष्ठ मुस्लिम नेता हाजी जमीलुद्दीन ने कहा, भाजपा में वरुण गांधी को नजरअंदाज किया गया है. पार्टी में पीएम मोदी के अलावा किसी और नेता को अपनी बात कहने का हक नहीं है. इसके बावजूद वरुण ने लगातार अपनी बात को रखा है. उन्होंने कहा कि भाजपा के कई समर्थकों ने यूपी विधानसभा चुनाव के समय सीएम के लिए वरुण गांधी का नाम आगे करने की मांग की थी, लेकिन ऐसा नहीं हो सका." 

कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता हाजी मंजूर अहमद ने कहा कि साल 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले वरुण कांग्रेस में आ सकते हैं. राहुल-वरुण की जोड़ी इस चुनाव में बड़ा कमाल कर सकती है. राहुल की सगी बहन प्रियंका वाड्रा और चचरे भाई वरुण गांधी में हमेशा अच्छे संबंध रहे हैं. वरुण को कांग्रेस में लाने के लिए प्रियंका एक बड़ा रोल निभा सकती हैं."

अगर इन बातों पर यकीन करें तो वरुण गांधी के कांग्रेस में शामिल होने के बाद गांधी परिवार करीब 35 साल बाद फिर एक साथ होगा. गौरतलब है कि संजय गांधी की मौत के बाद इस परिवार में दरार आ गई थी. इन मीडिया रिपोट्स को इसलिए भी गंभीरता से लिया जा सकता है क्योंकि ये दोनों नेता कभी भी एक दूसरे के खिलाफ कोई बयानबाजी नहीं करते हैं.

First published: 28 November 2017, 11:11 IST
 
अगली कहानी