Home » राजनीति » BJP president amit shah started bharat ke man ki baat
 

अयोध्या मामला: अमित शाह का बड़ा बयान, बोले- साधु -संतों के साथ ही बनाएंगे भव्य राम मंदिर

कैच ब्यूरो | Updated on: 3 February 2019, 14:47 IST

लोकसभा चुनाव 2019 को लेकर सभी पार्टियां अपना-अपना दांव चल रही हैं. इसी कड़ी में कांग्ेस अध्य राहुल गांधी रविवार को पटना में जन आकंक्षा रैली कर रहे हैं. तो वहीं,भारतीय जनता पार्टी (BJP) अध्यक्ष अमित शाह और गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने भारत के मन की बात कैंपेन की शुरुआत की.

इस कैंपेन के जरिए बीजेपी आम जनता की राय को लेकर अपना संकल्प पत्र तैयार करेगी. इस कैंपेन के मौके पर अमित शाह ने राम मंदिर का मु्द्दा छेड़ते हुए कहा, "कोर्ट के अंदर लंबी बहस है, फिर भी 1993 में जो जमीन को अधिगृहित किया गया, उस भूमि को बीजेपी सरकार ने राम जन्मभूमि न्यास को वापस देने का फैसला किया है. ये एक एतिहासिक कदम है और मैं विपक्षी पार्टियों से कहना चाहता हूं कि वे इसमें बाधा न डालें" अमित शाह ने कहा,"हम साधु और संत के साथ हैं. हम अयोध्या में भव्य राम मंदिर बनाएंगे."

30 साल बाद कांग्रेस बिहार में भरेगी हुंकार, क्या रंग लाएगी जन आकांक्षा रैली?

इस दौरान अमित शाह ने बताया कि देश की स्थिति 2014 से पहले कैसे थी और उसके बाद कैसी है.उन्होंने कहा, "2014 के पहले देश के अंदर लोकतंत्र के बहुत बड़े हिस्से की आस्था डिगाने वाली थी. 30 साल तक गठबंधन सरकार का दौर रहा. देश के बहुत बड़े तबके को लगने लगा कि हमारी संसदीय प्रणाली काम कर पाएगी या नहीं. हमारी संसदीय प्रणाली देश को विश्व में उचित स्थान दिला पाएगा. ये आशंका थी 2014 तक."

शाह ने कहा, "2014 के पहले कि देश की समस्या के समाधान के लिए कोई कदम नहीं उठाए गए. 50 करोड़ गरीबों के जीवन के लिए टुकड़ों-टुकड़ों में बजट को लाया गया. उन्होंने कहा कि सिर्फ चुनाव जीतने के लिए वादे किए गए. जिसके कारण देश का अर्थतंत्र कमजोर हुआ."

लोकसभा चुनाव से पहले PM मोदी जम्मू में 2 एम्स की रखेंगे आधारशिला

अमित शाह ने युवाओं को संबोधित करते हुए कहा, "युवा देश के विकास के साथ जुड़े, इसे दिशा में कोई रणनीतिक फैसले नहीं किए गए. लोगों को नहीं लगता था उसको देश के लिए कुछ करना है. वह सिर्फ परिवार के लिए सोचता था, जिसको नीतिगत फैसले लेने थे वो सरकार चलाने में लगे."

BJP अध्यक्ष ने कहा, "सरकार सिर्फ 5 साल के लिए नहीं होती है, ये चलती रहती है. 5 साल की सरकारों ने देश को पीछे धकेल दिया. 2014 में जनता ने बड़ा फैसला लिया. 30 साल बाद किसी पार्टी को बहुमत मिला. आजादी के बाद पहली बार किसी गैर कांग्रेसी सरकार को बहुमत मिला. मोदी की सोच ने देश की स्थिति को बदला है. दुनिया में भारत को अब सम्मान के साथ देख जाता है."

चुनाव में जीतने के लिए वोटर्स को बांटे पैसे, हारने के बाद ऐसे कर रहा वसूल

अमित शाह ने अपनी पार्टी की तारीफ करते हुए कहा, "भारतीय जनता पार्टी और बाकी पार्टियों में बहुत बड़ा अंतर है. भारतीय जनता पार्टी देश की एक मात्र ऐसी पार्टी है जिसके अंतर आतंरिक लोकतंत्र है. जिस पार्टी के अंतर आतंरिक लोकतंत्र होता है, वही पार्टी देश के लोकतंत्र को मजबूत कर सकती है. 

अमित शाह ने कहा, "संकल्प पत्र के लोकतांत्रिकरण का ये अनुठा प्रयोग है. 10 करोड़ परिवार कैसा देश चाहते हैं ये बात उनसे जानी जाएगी. कार्यक्रम भाजपा का नहीं है, बल्कि देश के लिए है. ये कार्यक्रम देश को सुरक्षित करने, गरीब का जीवन स्तर ऊंचा उठाने के लिए है. ये कार्यक्रम नया भारत बनाने के लिए है."

 

First published: 3 February 2019, 14:47 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी