Home » राजनीति » BJP sent feelers to Shiv Sena, offering post of deputy chairman of the Rajya Sabha
 

BJP ने 2019 चुनाव से पहले नाराज शिवसेना को दिया ये बड़ा ऑफऱ

कैच ब्यूरो | Updated on: 4 April 2018, 15:41 IST

बीजेपी ने नाराज चल रही शिवसेना को मनाने की कोशिश शुरू कर दी है. बीजेपी ने शिवसेना को राज्यसभा के डिप्टी चेयरमैन का पद देने का ऑफर किया है. हालांकि अभी तक इसको लेकर शिवसेना की तरफ से कोई जवाब नहीं दिया गया है.

बता दें कि शिवसेना पिछले कुछ दिनों से बीजेपी से नाराज चल रही है. केंद्र की मोदी सरकार की नीतियों से खुश नहीं है. शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे लगातार पीएम मोदी और बीजेपी पर हमला बोलते रहे हैं. इसके साथ ही शिवसेना ने साल 2019 में होने वाला लोकसभा चुनाव भी अलग लड़ने का फैसला किया है. वहीं शिवसेना को डर  है कि बीजेपी उसकी राजनीतिक जमीन को हथियाने की कोशिश कर रही है. हालांकि अभी तक शिवसेना महाराष्ट्र और केंद्र की मोदी सरकार में शामिल है.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार,  राज्यसभा के उपसभापति का पद खाली होने जा रहा है. उपसभापति पीजे कुरियन का कार्यकाल जल्दी ही समाप्त होने जा रहा है. बीजेपी की कोशिश इस पद को अपने पास रखने की है. बीजेपी नहीं चाहती है कि ये पद कांग्रेस के पास चला जाए.

राजनीतिक गलियारों में भी ये चर्चा जोर शोर से चल रही है कि बीजेपी उपसभापति के पद को अपने पास रखना चाहती है. नवभारत टाइम्स वेबसाइट्स में सूत्रों के हवाले से लिखा है कि बीजेपी ने उद्धव ठाकरे को शिवसेना के किसी प्रतिनिधि को राज्यसभा का उपसभापति बनाने का संदेश भेजा है. हालांकि अभी तक शिवसेना की तरफ से इसका जवाब नहीं दिया गया है.

बीजेपी ने शिवसेना को ये ऑफर ऐसे समय दिया है. जब सभी विपक्षी पार्चियां बीजेपी के खिलाफ एक होने की कोशिश कर रही हैं. हाल ही में उद्धव ठाकरे ने भी पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से मुलाकात की थी. ममता तीसरा मोर्चा बनाने की बात कर रही हैं. वहीं शिवसेना भी बीजेपी और मोदी सरकार पर लगातार सवाल खड़े करती चली आ रही है. ऐसे में उसके लिए इस पर फैसला करना आसान नहीं होगा. शिवसेना का बहुत बुद्धिमानी से फैसला करना होगा.

कहा जा रहा है कि अगर शिवसेना बीजेपी का ऑफर मान लेती है, तो सबको यही लगेगा कि बीजेपी ने शिवसेना की नाराजगी को दूर कर दिया है. इसका नुकसान उसको आगामी लोकसभा चुनाव में सीटों के बंटबारे को लेकर हो सकता है. बीजेपी लोकसभा चुनाव में ज्यादा सीटों पर चुनाव लड़ने की बात कर सकती है. वैसे भी शिवसेना को ये डर पहले ही है कि बीजेपी उसकी राजनातिक जमीन को हथिया रही है. 

इतना ही नहीं अगर शिवसेना बीजेपी के ऑफर पर मान जाती है, तो भी शिवसेना के लिए आगे की डगर आसान नहीं दिख रही है. को अपने राज्यसभा सदस्य के चुनाव को लेकर दिक्कत हो सकती है. क्योंकि शिवसेना के राज्यसभा में तीन सदस्य हैं. इसमें से संजय राउत और वेणुगोपाल धूत का तीसरा कार्यकाल है. साथ ही एक राजनेता के रूप में इनकी छवि सही नहीं हैं.

अब बचे अनिल देसाई जिनका कार्यकाल अभी शुरू ही हुआ है. ऐसे में शिवसेना को उपसभापति के लिए सदस्य का चुनाव करना मुश्किल हो सकता है. इसके साथ ही उसको बीजेपी के खिलाफ नरम रुख अख्तियार करना पड़ेगा.

First published: 4 April 2018, 15:41 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी