Home » राजनीति » Both the AAP and the BJP are looking forward to their victory in Supreme Court decision on Delhi Government vs LG
 

SC फैसले को BJP ने बताया केजरीवाल की हार, कहा ये...

कैच ब्यूरो | Updated on: 4 July 2018, 14:33 IST

दिल्ली में केजरीवाल सरकार और एलजी के बीच लंबे समय से चली आ रही खींचतान के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने ऐतिहासिक फैसला सुनाया है. सर्वोच्च अदालत के फैसले में बीजेपी और आम आदमी पार्टी दोनों को अपनी अपनी जीत नजर आ रही है. बीजेपी ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले को सीएम केजरीवाल की राजनीतिक हार करार दिया है. वहीं, आम आदमी पार्टी ने इसको जनता की जीत कहा है.

सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा ने कहा है कि सर्वोच्च अदालत का ये फैसला केजरीवाल की राजनीतिक स्टंट की राजनीति की हार है. वहीं, बीजेपी नेता विजेंद्र गुप्ता का कहना है कि सुप्रीम कोर्ट का फैसला दिल्ली की केजरीवाल सरकार के लिए एक झटका है. उन्होंने कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट के फैसले पर ही मोहर लगाई है. इस साफ हो गया है कि पुलिस, जमीन और कानून व्यवस्था के मामले पर उप राज्यपाल का पूरा नियंत्रण है.

वहीं, दूसरी तरफ दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल और उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोसिया ने सुप्रीम कोर्ट के फैसले को दिल्ली की जनता की जीत करार दिया है. मनीष सिसोदिया ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने ऐतिहासिक फैसला सुनाया है. अब दिल्ली सरकार को किसी भी फाइल को मंजूर कराने के लिए एलजी के पास नहीं भेजना होगा. सरकार के काम में अब कोई रुकावट नहीं आएगी. मैं इस फैसले के लिए सुप्रीम कोर्ट को धन्यवाद देता हूं. ये लोकतंत्र की बड़ी जीत है. उन्होंने कहा, पुलिस, जमीन और कानून व्यवस्था को लेकर हमारी मांग अभी भी जारी है और हम अभी भी दिल्ली को पूर्ण राज्य की मांग उठाते रहे हैं. हमारा आंदोलन जारी रहेगा.

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी कोर्ट के फैसले पर खुशी जताते हुए ट्वीट किया. केजरीवाल ने ट्वीट कर कहा कि ये दिल्ली की जनता की बड़ी जीत है. लोकतंत्र की बड़ी जीत है.

बता दें कि मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट ने आम आदमी पार्टी की पिटीशन पर सुनवाई करते हुए एक अहम फैसला सुनाया है. सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में कहा है  दिल्ली कैबिनेट के साथ मिलकर उपराज्यपाल को काम करना होगा. उन्होंने कहा कि एलजी के पास स्वतंत्र अधिकार नहीं है. पुलिस, जमीन और पब्लिक ऑर्डर के अलावा दिल्ली विधानसभा कोई भी कानून बना सकती है. दिल्ली की स्थिति बाकी केंद्र शासित राज्यों और पूर्ण राज्यों से अलग है, इसलिए सभी साथ काम करें. 

ये भी पढ़ें- SC का फैसला ऐतिहासिक, लेकिन पूर्ण राज्य के दर्जे के लिए जारी रहेगा आंदोलन: मनीष सिसोदिया

First published: 4 July 2018, 14:33 IST
 
अगली कहानी