Home » राजनीति » Rahul Gandhi on Budget 2017: We were expecting fireworks, instead got a damp squib
 

आम बजट पर जानिए विपक्ष की राय और रेटिंग

कैच ब्यूरो | Updated on: 1 February 2017, 16:57 IST
(एएनआई)

वित्त मंत्री के अरुण जेटली के आम बजट को पीएम मोदी ने सभी वर्गों के सपनों को साकार करने की दिशा में उठाया गया कदम बताया है. बजट में टैक्स स्लैब में थोेड़ा बदलाव करते हुए ढाई लाख से पांच लाख के बीच आय वालों को पांच फीसदी टैक्स छूट मिली है. वहीं तीन लाख तक आय करमुक्त रहेगी. आम बजट पर विपक्ष की प्रतिक्रियाएं आ रही हैं. 

सबसे पहले बात कांग्रेस की. कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा, "यह शेरो-शायरी का बजट है. किसानों के लिए कुछ नहीं किया. हम आतिशबाजी की उम्मीद कर रहे थे, लेकिन फुस्स पटाखा मिला." 

हालांकि राहुल ने राजनीतिक चंदे पर एक व्यक्ति के लिए नकदी सीमा दो हजार रुपये करने को सही कदम बताते हुए कहा, "पॉलिटिकल फंडिंग को साफ-सुथरा बनाने के लिए किसी भी कदम का हम समर्थन करते हैं."

लोकसभा में नेता विपक्ष मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि रेल बजट और आम बजट को एक साथ पेश करने से इसकी पहचान चली गई. बड़ी मछली छोटी मछली को निगल गई.

पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने बजट को विवादित करार देते हुए कहा कि यह एक क्लूलेस, यूजलेस, बेसलेस, मिशनलेस और एक्शनलेस और हार्टलेस बजट है. सरकार अपनी विश्वसनीयता खो चुकी है और बजट में देश के भविष्य के लिए कोई रोडमैप नहीं है. ममता ने टैक्स अदा करने वाले लोगों की नकद निकासी पर लगी बाध्यता को तुरंत हटाने की मांग की.

सीपीआई एम ने भी बजट को किसान विरोधी करार दिया है. पार्टी ने कहा है कि यहां तक कि लगातार दो साल के सूखे के बावजूद किसानों को कर्ज से कोई राहत का एलान नहीं किया गया. नोटबंदी से प्रभावित किसानों के लिए इसमें कोई राहत नहीं है.

First published: 1 February 2017, 16:57 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी