Home » राजनीति » Bullet train is not a common man’s dream, shivsena says on its its mouthpiece ‘Saamana’.
 

'बुलेट ट्रेन आम जनता का नहीं पीएम मोदी का महंगा सपना है'

कैच ब्यूरो | Updated on: 14 September 2017, 17:11 IST

मुंबई-अहमदाबाद बुलेट ट्रेन परियोजना पर सत्तारूढ़ राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) की सहयोगी शिवसेना ने ऐतराज जताया है. गुरुवार को बुलेट ट्रेन परियोजना की आलोचना करते हुए इसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का 'महंगा सपना' बताया.

शिवसेना का कहना कि, इस परियोजना से देश को 108,000 करोड़ रुपये की चपत लगेगी. भारत के पहले हाई-प्रोफाइल उच्च गति वाली रेल परियोजना की नींव गुरुवार को संयुक्त रूप से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके जापानी समकक्ष शिंजो आबे ने रखी. 

शिवसेना ने अपने मुखपत्र 'सामना' और 'दोपहर का सामना' में कहा, "जापान इस परियोजना के लिए कील से लेकर रेल, मानव शक्ति से लेकर प्रौद्योगिकी और यहां तक की सीमेंट-कंक्रीट सब कुछ लाएगा. भूमि और पैसा गुजरात और मुंबई से आएगा और टोक्यो सारा मुनाफा लेगा, लेकिन लूट और धोखाधड़ी के बावजूद सभी मोदी को इस परियोजना के लिए बधाई दे रहे हैं."

शिवसेना ने यह भी जिक्र किया कि मुंबई का बोझ से दबा और असुरक्षित उपनगरीय रेल धन और सुधार के अभाव से जूझ रहा है और राज्य में कई अधूरी परियोजनाएं लंबित हैं. बुलेट ट्रेन भारत की आम जनता का सपना नहीं है. यह सिर्फ अमीरों के लिए है और इसके लिए गोयल खास तौर से चुने गए हैं और यह गुजरात को उद्योगपतियों कुछ नया देने के लिए हैं, जहां जल्द ही चुनाव होने वाले हैं. 

शिवसेना ने भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि किसानों के छूट देने का मुद्दा उठाने पर मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस इसे अराजकता बताते हैं और मोदी के सपने के लिए 30,000 करोड़ रुपये से ज्यादा की धनराशि दे रहे हैं. 
मुखपत्र में कहा गया, "अब हम आशा और दुआ करते हैं कि बुलेट ट्रेन का इस्तेमाल मुंबई को लूटने के लिए नहीं किया जाए."

First published: 14 September 2017, 17:11 IST
 
अगली कहानी