Home » राजनीति » Twitter trends on Catch Exclusive story of BJP's Land Deal before Note Ban
 

कैच एक्सक्लूसिव: नोटबंदी से पहले BJP की लैंड डील पर विपक्ष का हमला

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 February 2017, 1:37 IST
(कैच)

नोटबंदी से पहले भाजपा के बिहार में जमीन खरीदने के मामले में कैच की एक्सक्लूसिव खबर पर सियासत गरमा गई है. कैच की रिपोर्ट में खुलासा किया गया है कि भाजपा ने पीएम के एलान से कुछ दिन  पहले देश के अलग-अलग हिस्सों में ज़मीनें खरीदीं.

इन जमीनों की कीमत करोड़ों रुपये है. बिहार राज्य से मिले दस्तावेज बताते हैं कि पार्टी ने अगस्त महीने के बाद से लेकर नवंबर महीने के पहले हफ्ते तक करोड़ों रुपए की जमीनें अलग-अलग जिलों में खरीदीं.

कैच की इस रिपोर्ट के बाद सोशल मीडिया पर सियासी प्रतिक्रियाओं की बाढ़ आ गई है. स्वराज अभियान के प्रशांत भूषण ने कैच हिंदी की स्टोरी ट्वीट करते हुए लिखा, "चौंकाने वाला खुलासा! बीजेपी ने नोटबंदी से ठीक पहले बड़े पैमाने पर जमीन खरीदी. इससे साफ है कि बीजेपी को इसका काला धन निवेश करने के लिए पहले ही बता दिया गया था."

कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने ट्वीट किया, "बीजेपी ने बिहार में जमीन खरीदी: पांच सौ और एक हजार रुपये के नोट पर प्रतिबंध लगने से पहले बीजेपी ने बिहार में करोड़ों की जमीन खरीदी. जेटली जी जांच करवाएंगे?"

पढ़ें: नोटबंदी से ठीक पहले भाजपा ने देश भर में करोड़ों की जमीनें खरीदीं

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कैच न्यूज़ की रिपोर्ट के साथ ट्वीट किया, "यह चौंकाने वाला सच है. बीजेपी ने अपना पैसा ठिकाने लगा लिया. शर्मनाक."

आम आदमी पार्टी के प्रवक्ता आशुतोष ने ट्विटर पर लिखा, "यह एक बड़ा घोटाला है. इसकी जांच होनी चाहिए. अमित शाह की भूमिका की जांच होनी चाहिए. मोदी भी इसमें शामिल हैं."

जनता दल यूनाइटेड ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर लिखा है, "बीजेपी ने करोड़ों की जमीन नोटबंदी से ठीक पहले खरीदी है. इससे स्पष्ट होता है कि नोटबंदी बीजेपी और इसके नेताओं के लिए गुप्त नहीं थी."

कांग्रेस की प्रवक्ता प्रियंका चतुर्वेदी ने ट्वीट किया, "मोदी जी और सच बहुत मुश्किल से साथ चलते हैं. गोपनीयता एक शर्म?"

कृषि वैज्ञानिक देविंदर शर्मा ने कैच हिंदी की स्टोरी के साथ ट्वीट किया, "नोटबंदी से ठीक पहले भाजपा ने देश भर में करोड़ों की जमीनें खरीदीं."

कांग्रेस नेता सलमान अनीस सोज ने ट्वीट किया, "पीएम नरेंद्र मोदी और अमित शाह को इस गंभीर आरोप पर जवाब देना चाहिए. नोटबंदी से पहले भाजपा के बड़े बैंक डिपॉजिट और अब जमीन की खरीद."

लेखक पवन खेड़ा ने कैच की स्टोरी का लिंक ट्वीट करते हुए लिखा, "हमें इसे क्या कहना चाहिए?"

आम आदमी पार्टी के नेता संजय सिंह ने ट्वीट किया, "मोदी जी ने कहा, "कालाधन वालों को तैयारी का मौक़ा नही मिला" तो ये क्या है मोदी जी?"

सामाजिक कार्यकर्ता अंजलि दमानिया ने ट्वीट किया, "बीजेपी और बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष ने नोटबंदी से एक हफ्ते पहले अपने विधायकों के जरिए बिहार में और कई दूसरे राज्यों में जमीनें खरीदीं."

वरिष्ठ पत्रकार ओम थानवी ने भी कैच हिंदी की रिपोर्ट को अपने ट्विटर पेज पर शेयर किया है.

इसके साथ ही स्टैंड अप कॉमेडियन तन्मय भट्ट ने भी जमीनों की खरीद पर कैच न्यूज़ की स्टोरी का लिंक ट्वीट किया है.

First published: 25 November 2016, 11:54 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी