Home » राजनीति » Manoj Tiwari and Nityanand Rai appoineted as state unit presidents of Delhi and Bihar respectively
 

बदलाव: मनोज तिवारी दिल्ली और नित्यानंद राय बिहार BJP के नए अध्यक्ष

कैच ब्यूरो | Updated on: 7 February 2017, 8:18 IST

भारतीय जनता पार्टी ने राजनीतिक दृष्टि से अहम दो राज्यों में अपने प्रदेश अध्यक्ष बदल दिए हैं. दिल्ली में मनोज तिवारी और बिहार में नित्यानंद राय को भाजपा प्रदेश अध्यक्ष की कमान सौंपी गई है.

उत्तर पूर्व दिल्ली से भाजपा सांसद मनोज तिवारी अब सतीश उपाध्याय की जगह ले रहे हैं. सतीश उपाध्याय को 2015 के विधानसभा चुनाव से पहले भाजपा की कमान सौंपी गई थी. वहीं नित्यानंद राय को मंगल पांडेय की जगह बिहार भाजपा का नया अध्यक्ष बनाया गया है.

दोनों राज्यों में हारी थी बीजेपी

खास बात यह है कि दोनों ही राज्यों में विधानसभा चुनाव के बाद नेतृत्व परिवर्तन के कयास लगाए गए थे. हालांकि उस वक्त सतीश उपाध्याय और मंगल पांडेय को नहीं हटाया गया.

दिल्ली में आम आदमी पार्टी ने 2015 के विधानसभा चुनाव में भाजपा का सफाया कर दिया था. 70 सदस्यों वाली विधानसभा में भाजपा महज तीन सीटों पर सिमटकर रह गई थी. बीजेपी ने अरविंद केजरीवाल के खिलाफ किरण बेदी को चेहरा बनाकर चुनाव लड़ा था.  

इसके अलावा बिहार में भी नीतीश कुमार की अगुवाई वाले महागठबंधन ने पिछले साल अक्तूबर-नवंबर में हुए विधानसभा चुनाव में एनडीए को करारी शिकस्त दी. 243 सदस्यों वाली बिहार विधानसभा में बीजेपी को केवल 53 सीटें हासिल हुई थीं. वहीं नीतीश कुमार के महागठबंधन (जेडीयू, आरजेडी और कांग्रेस) ने 178 सीटों पर  ऐतिहासिक जीत दर्ज की थी.

कौन हैं मनोज तिवारी?

भोजपुरी गायक के रूप में मनोज तिवारी ने पटना से लेकर लखनऊ तक अपनी आवाज़ का लोगों को दीवाना बनाया. उनके कई गाने पूर्वी उत्तर प्रदेश से लेकर बिहार तक भोजपुरी पट्टी में लोगों की जुबान पर आज भी जुगलबंदी करते नजर आते हैं. 

45 साल के मनोज तिवारी का 1 फरवरी 1971 को बिहार के कैमूर जिले के अतरवलिया गांव में जन्म हुआ था. मनोज तिवारी के पिता का नाम चंद्रदेव तिवारी और मां का नाम ललिता देवी है. उनके परिवार में कुल छह भाई-बहन हैं.

10 साल भोजपुरी गायन

भोजपुरी फिल्मों का सुपरहिट अभिनेता बनने से पहले मनोज तिवारी ने तकरीबन दस साल भोजपुरी गायक के रूप में अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन किया.

2003 में उन्होंने फिल्म 'ससुरा बड़ा पैसा वाला' में अभिनय किया, जो मनोरंजन और आर्थिक दृष्टि से काफी कामयाब साबित हुई. इसके बाद मनोज तिवारी ने दो और फिल्मों 'दारोगा बाबू आई लव यू' और 'बंधन टूटे ना' नाम की फिल्मों में अभिनय किया.

2010 में बिग बॉस का हिस्सा

टेलीविज़न कार्यक्रम 'चक दे बच्चे' का वे बतौर होस्ट हिस्सा रहे. 2010 में मनोज तिवारी ने प्रतिभागी के तौर पर रियलिटी शो 'बिग बॉस' में हिस्सा लिया.

इसके साथ ही मनोज तिवारी और श्वेता तिवारी 'कब अइबू अंगनवा हमार' और 'ए भौजी के सिस्टर' जैसी हिट भोजपुुरी फिल्मों में भी काम कर चुके हैं. 2012 के मध्य में मनोज तिवारी का उनकी पत्नी रानी से अलगाव हो गया. 1999 में उनकी रानी से शादी हुई थी.

आदित्यनाथ के खिलाफ भी लड़ा चुनाव

15वीं लोकसभा के चुनाव में मनोज तिवारी ने गोरखपुर लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र से समाजवादी पार्टी उम्मीदवार के रूप में हिस्सा लिया. हालांकि वे भारतीय जनता पार्टी के कद्दावर नेता योगी आदित्यनाथ से चुनाव हार गए.

अगस्त 2011 में अन्ना हजारे के भ्रष्टाचार विरोधी और बाबा रामदेव के काले धन के खिलाफ आंदोलन में भी मनोज तिवारी सक्रिय रहे. 2014 के आम चुनावों में मनोज तिवारी उत्तर पूर्वी दिल्ली लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र से निर्वाचित हुए.

First published: 30 November 2016, 11:15 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी