Home » राजनीति » Chennai: Sasikala and O Panneerselvam factions may unite
 

'दो पत्तियों' के लिए दो दुश्मन शशिकला और OPS मिलाएंगे हाथ!

कैच ब्यूरो | Updated on: 18 April 2017, 12:59 IST
(एएनआई)

तमिलनाडु में जयललिता के निधन के बाद दो खेमों में बंटे शशिकला और पन्नीरसेल्वम फिर से हाथ मिला सकते हैं. पूर्व मुख्यमंत्री जयललिता की गैरमौजूदगी में तमिलनाडु की सत्ता संभालने वाले ओ पन्नीरसेल्वम और शशिकला के बीच सत्ता हस्तांतरण को लेकर इस साल विवाद शुरू हुआ था.

पांच फरवरी 2017 को पन्नीरसेल्वम ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दिया था और इसके बाद शशिकला को एआईएडीएमके विधायक दल का नेता बनाकर ताजपोशी का रास्ता साफ़ हुआ था. हालांकि पन्नीरसेल्वम बाद में पलट गए और चेन्नई में जयललिता की समाधि पर वक्त बिताने के बाद उन्होंने एलान किया कि उनसे दबाव में इस्तीफा देने का कहा गया था. यहीं से पन्नीरसेल्वम और शशिकला के बीच विवाद की शुरुआत हुई.  

सोमवार रात को खबर आई है कि एआईएडीएमके के शशिकला और पन्नीरसेल्वम खेमे ने आपस में बातचीत की है. इस दौरान दोनों धड़ों के एक बार फिर पार्टी में विलय को लेकर चर्चा हुई. इसे तमिलनाडु की राजनीति में अहम सियासी घटनाक्रम माना जा रहा है.

पार्टी के पुराने सिंबल का विवाद

शशिकला को आय से ज्यादा संपत्ति के 19 साल पुराने मामले में 14 फरवरी को चार साल जेल की सजा हुई. इसके बाद ई पलानीस्वामी को पार्टी विधायक दल का नेता चुनते हुए मुख्यमंत्री की कुर्सी सौंप दी गई थी. 18 फरवरी को 122 विधायकों का समर्थन हासिल करते हुए पलानीस्वामी ने विश्वास प्रस्ताव जीत लिया था. हालांकि पन्नीरसेल्वम इस दौरान खुले तौर पर बागी रहे.

खबर है कि दोनों धड़े मर्जर के बाद एआईएडीएमके के पुराने सिंबल दो पत्तियों पर दावा करेंगे, जिसे पार्टी में चल रहे विवाद के बाद चुनाव आयोग ने फ्रीज कर दिया था. शशिकला और पन्नीरसेल्वम दोनों धड़ों ने इस सिंबल पर अपना-अपना दावा ठोका था. 

ओपीएस के ऑफर से शशिकला खेमा ख़ुश

बताया जा रहा है कि सोमवार रात को दोनों धड़ों के नेताओं थंगामानी और उदुमलाई राधाकृष्णन के बीच विलय को लेकर दो अलग-अलग बैठक हुई. इस दौरान शशिकला के भतीजे टीटीवी दिनाकरन के इस्तीफे को लेकर भी विचार-विमर्श हुआ.

यह घटनाक्रम इसलिए भी अहम है क्योंकि एक दिन पहले ही पन्नीरसेल्वम ने इच्छा जताई थी कि दोनों खेमों के बीच मर्जर का वे स्वागत करेंगे. इस पर एआईएडीएमके के शशिकला धड़े के नेता डी जयकुमार ने कहा, "हम ओपीएस के विलय प्रस्ताव की प्रशंसा करते हैं. हम किस तरह आगे पार्टी को चलाएंगे इस पर चर्चा हुई है.  

ओ पन्नीरसेल्वम ने कहा है, "शशिकला खेमे ने विलय पर बातचीत के लिए एक कमेटी बनाई है."

आरकेनगर चुनाव का साइड इफेक्ट

सियासी जानकार ये भी मान रहे हैं कि कहीं न कहीं दोनों खेमों के करीब आने के पीछे चुनाव आयोग द्वारा आरके नगर का उपचुनाव रद्द करना भी है. जयललिता इसी सीट से जीतती रही थीं. वोटरों की खरीद-फरोख्त के आरोप में चुनाव आयोग ने 12 अप्रैल को यहां प्रस्तावित मतदान रद्द कर दिया था.

मतदान से पहले आयकर विभाग ने चेन्नई में 35 ठिकानों पर ताबड़तोड़ छापे मारे थे. आयकर अफसरों का आरोप है कि शशिकला खेमे ने अपने उम्मीदवार टीटीवी दिनाकरन को जिताने के लिए मतदाताओं में 89 करोड़ रुपये बांटे. आयकर विभाग ने सबूत के तौर पर संपत्ति के दस्तावेज भी जब्त किए हैं. इसमें राज्य के स्वास्थ्य मंत्री सी विजयभास्कर से जुड़ी प्रॉपर्टी के कागजात भी शामिल हैं. हालांकि शशिकला खेमे ने आरोपों को सिरे से खारिज किया है.

पिछले साल 5 दिसंबर को जयललिता के निधन के बाद एआईएडीएमके उठापटक के दौर से गुजर रही है. अगर शशिकला और पन्नीरसेल्वम खेमों के बीच विलय पर बात बन जाती है, तो जयललिता के जाने के बाद एआईएडीएमके में चल रहे पॉलिटिकल ड्रामे का ये नया चैप्टर होगा. 

ट्विटर
First published: 18 April 2017, 12:41 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी