Home » राजनीति » Coal block allocation case: Special CBI court sentenced former coal secretary HC Gupta & other former officials to 2 years in prison.
 

कोयला घोटाला: KSSPL मामले में पूर्व कोयला सचिव को 2 साल की सज़ा

कैच ब्यूरो | Updated on: 22 May 2017, 15:43 IST

दिल्ली की विशेष सीबीआई अदालत ने कोयला घोटाले से जुड़े एक मामले में पूर्व कोयला सचिव एच सी गुप्ता को 2 साल की सज़ा सुनाई है. इसके अलावा अदालत ने दो पूर्व अफसरों केएस क्रोफा और केसी समारिया को भी दो साल की सजा सुनाई है. 

सीबीआई कोर्ट ने सजा सुनाने के बाद दोषियों को जमानत दे दी है. पूर्व कोयला सचिव एच सी गुप्ता, केएस क्रोफा और केसी समारिया को 1 लाख रुपये के पर्सनल बॉन्ड और इतने ही रुपये की जमानत भरने को कहा गया.

सभी दोषियों को मध्य  प्रदेश में थेसगोड़ा-बी रुद्रपुरी कोयला ब्लॉक का आवंटन केएसएसपीएल को करने में की गई अनियमितताओं के मामले में दोषी ठहराया गया है. कोयला घोटाला मनमोहन सिंह की अगुआई वाली यूपीए सरकार के दौरान हुआ था.

KSSPL कोल ब्लॉक मामला

सुनवाई के दौरान सीबीआई ने आरोप लगाया था कि केएसएसपीएल द्वारा कोयला ब्लॉक के लिए दायर किया गया आवेदन अधूरा था और जारी दिशा-निर्देशों के मुताबिक न होने के कारण इसे मंत्रालय की ओर से खारिज कर दिया जाना चाहिए था.

सीबीआई ने आरोप लगाया था कि कंपनी ने अपनी नेट वर्थ और मौजूदा क्षमता को गलत बताया था. सीबीआई ने कहा कि राज्य सरकार ने भी कंपनी को कोई कोयला ब्लॉक आवंटित करने की सिफारिश नहीं की थी. हालांकि सुनवाई के दौरान आरोपियों ने आरोपों को गलत बताया.

अदालत ने पिछले साल अक्तूबर में आरोप तय करते हुए कहा था कि पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को गुप्ता ने अंधेरे में रखा था और कोयला ब्लॉक आवंटन मामले में गुप्ता ने प्रथम दृष्ट्या कानून एवं उन पर जताए गए विश्वास का उल्लंघन किया.

गुप्ता के खिलाफ लगभग आठ अलग-अलग आरोपपत्र दायर किए गए हैं और इनपर अलग-अलग कार्यवाही चल रही है. सुप्रीम कोर्ट ने हाल ही में इन सभी मामलों में संयुक्त सुनवाई की मांग करने वली याचिका को खारिज कर दिया था.

First published: 22 May 2017, 15:43 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी