Home » राजनीति » Coronavirus Madhya Pradesh Government Floor Test
 

कोरोना वायरस का खौफ, सोमवार को नहीं होगा कमलनाथ सरकार का बहुमत परीक्षण?

कैच ब्यूरो | Updated on: 15 March 2020, 17:31 IST

कोरोना वायरस (Coronavirus) के कारण अब तक पूरे विश्व में 5800 से अधिक लोग अपनी जान गंवा चुके है. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) इसे महामारी घोषित कर चुका है. भारत में इस वायरस के कारण अभी तक दो लोगों की मौत हो चुकी है जबकि 108 लोगों में अभी तक इस वायरस के संक्रमण का पता चल चुका है. लेकिन लगता है कि यह वायरस अब मध्यप्रदेश (Madhy aPradesh) में कांग्रेस की सरकार बचा सकता है और सोमवार को होने वाला फ्लोर टेस्ट भी टाल सकता है. 

दरअसल, मध्यप्रदेश के राज्यपाल ने कमलनाथ सरकार को सोमवार को फ्लोर टेस्ट करवाने का आदेश दिया है. लेकिन अभी तक स्थिति साफ नहीं हो पाई है कि क्या कोरोना वायरस के असर को देखते हुए विधानसभा का सत्र बुलाया जाएगा कि नहीं. इतना ही नहीं रविवार को मुख्यमंत्री कमलनाथ के घर पर कैबिनेट की बैठक हुई जिसमें दूसरे राज्यों से आने वाले विधायकों का कोरोना वायरस टेस्ट करवाने पर भी चर्चा की गई है.

इस बैठक की बारे में जानकारी देते हुए राज्य के जनसंपर्क मंत्री पी. सी. शर्मा ने कहा,'कोरोनावायरस की स्थिति पर विचार-विमर्श किया गया. विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भी कोरोना को महामारी घोषित किया है. राज्य सरकार की ओर से इस बीमारी को लेकर खास इंतजाम किए गए हैं. स्कूलों, कॉलेजों में छुट्टी कर दी गई है, आंगनवाड़ी केंद्र, स्वीमिंग पूल, सिनेमाघर बंद हैं. बैठक में कई मंत्रियों ने कहा कि जयपुर से आए विधायकों और बेंगलुरू व गुरुग्राम से आने वाले विधायकों का भी स्वास्थ्य परीक्षण कराया जाए.'

दूसरी तरफ राज्य के निर्दलीय विधायक और मध्य प्रदेश सरकार में मंत्री प्रदीप जायसवाल ने कैबिनेट मीटिंग के कहा है कि यह जरूरी नहीं है कि सोमवार को ही फ्लोर टेस्ट हो. उन्होंने कहा,'हमारे पास संख्या है. मुख्यमंत्री आश्वस्त है. अभी इंतजार कीजिए. कल की परीक्षा (फ्लोर टेस्ट) हो यह जरूरी नहीं है क्योंकि अभी तो कोरोना चल रहा है.'

गौरतलब हो, कर्नाटक के बेंगलुरू से कांग्रेस के 19 बागी विधायक भोपाल पहुंच रहे हैं. कर्नाटक में कोरोना वायरस के 19 मामले सामने आ चुके हैं जिसमें एक व्यक्ति कि मौत भी हो चुकी है.

ये भी पढ़े- कोरोना वायरस: दुनियाभर में अबतक 5,845 मौत, 158,706 संक्रमित, यहां जानिए पूरे आंकड़े

दूसरी तरफ मध्यप्रदेश विधानसभा के स्पीकर ने कहा,मैं उन विधायकों की प्रतीक्षा कर रहा हूं जिन्होंने एक या दूसरे माध्यम से मुझे अपना इस्तीफा भेजा है, वे मुझसे सीधे संपर्क क्यों नहीं कर रहे हैं? मुझे चिंता है कि मेरे विधानसभा के सदस्यों के साथ क्या हो रहा है. यह लोकतंत्र की स्थिति पर सवाल उठाता है.' वहीं जब उनसे आगे पूछा गया कि क्या सोमवार को विधानसभा का सत्र होगा इस पर उन्होंने कहा,'यह सोमवार को ही मालूम चलेगा मैं अपना फैसला पहले नहीं बताऊंगा.'

हालांकि मध्यप्रदेश से कोरोना वायरस का कोई मामला तो सामने नहीं आया है लेकिन सरकार ने सावधानी बरतते हुए यह सभी कदम उठाएं है. ऐसे में देखना काफी दिलचस्प होगा कि जिस कोरोना वायरस से पूरा विश्व परेशान हैं और त्रस्त है क्या वो राज्य में कमलनाथ सरकार को राहत पहुंचाता है या नहीं.

First published: 15 March 2020, 17:00 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी