Home » राजनीति » Mamata Banerjee leads the protest march to the President's House
 

नोटबंदी: ममता बनर्जी की अगुवाई में राष्ट्रपति भवन तक विपक्ष का विरोध मार्च

कैच ब्यूरो | Updated on: 16 November 2016, 14:16 IST
(एएनआई)

नोटबंदी के मुद्दे पर मोदी सरकार के खिलाफ विपक्ष ने मोर्चाबंदी कर दी है. संसद के शीतकालीन सत्र के पहले दिन राज्यसभा में इस मु्दे पर जमकर हंगामा हुआ. इसके साथ ही पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी भी दिल्ली में मोदी सरकार के खिलाफ डट गई हैं.

ममता बनर्जी ने आज राष्ट्रपति भवन तक विपक्ष के विरोध मार्च की अगुवाई की. ममता इससे पहले मोदी सरकार से पांच सौ और एक हजार के पुराने नोट बंद करने का फैसला वापस लेने की मांग कर चुकी हैं.

टीएमसी सुप्रीमो के नेतृत्व में मार्च निकालते हुए विपक्षी नेता राष्ट्रपति भवन तक पहुंचे. विरोध प्रदर्शन में आम आदमी पार्टी के सांसद भगवंत मान भी शामिल हुए.

इसके अलावा जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री और नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला भी इस मार्च में शामिल हुए. इससे पहले राज्यसभा में कांग्रेस और लेफ्ट ने मोदी सरकार को चौतरफा घेरा. बसपा सुप्रीमो मायावती ने भी कहा कि सरकार के फैसले से आम जनता को काफी परेशानी हो रही है.

शिवसेना का भी मिला साथ

ममता ने इससे पहले बैंक में पुराने नोट बदलवाने के लिए उंगली पर स्याही लगाने के आदेश पर भी सवाल उठाए थे. ममता ने कहा था कि 19 नवंबर को राज्य में विधानसभा उपचुनाव होने हैं, जो लोग बैंक में नोट बदलने जा रहे हैं, वे संभावित मतदाता भी हैं. ऐसे में चुनाव आयोग का इस फैसले पर क्या कहना है?

इससे पहले भाजपा की सहयोगी पार्टी शिवसेना ने भी ममता के मार्च में शामिल होने का एलान किया था. शिवसेना ने मोदी सरकार के नोटबंदी के फैसले की आलोचना करते हुए इसे जनता पर आर्थिक अराजकता का बम फेंकने जैसा करार दिया था.

First published: 16 November 2016, 14:16 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी