Home » राजनीति » TMC protest at Delhi's Jantar-Mantar against currency demonetization
 

नोटबंदी के ख़िलाफ़ 28 नवंबर को विपक्ष ने किया 'आक्रोश दिवस' का एलान

कैच ब्यूरो | Updated on: 23 November 2016, 15:03 IST
(एएनआई)

नोटबंदी के मोदी सरकार के फैसले के खिलाफ विपक्ष ने घेराबंदी तेज कर दी है. बुधवार को पहले संसद भवन में स्थित गांधी प्रतिमा के पास विपक्ष के 200 सांसदों ने धरना दिया.

इसके बाद तृणमूल कांग्रेस की अध्यक्ष और पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी की अगुवाई में दिल्ली के जंतर-मंतर पर बुधवार दोपहर विपक्ष का विरोध प्रदर्शन शुरू हुआ.

इस बीच विपक्ष ने एलान किया है कि 500 और 1000 के पुराने नोटों को बंद करने के फैसले के विरोध में समूचा विपक्ष देशव्यापी प्रदर्शन करेगा. 28 नवंबर को विपक्षी पार्टियां देशभर में आक्रोश दिवस के नाम से विरोध प्रदर्शन करेंगी.

ट्विटर

200 सांसदों का धरना

विपक्षी सांसदों ने संसद भवन में गांधी प्रतिमा के पास एकजुटता दिखाते हुए धरना दिया. इस दौरान कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी के अलावा वरिष्ठ कांग्रेसी नेता गुलाम नबी आजाद और मल्लिकार्जुन खड़गे भी शामिल हुए.

वहीं तृणमूल कांग्रेस के डेरेक ओ ब्रायन, डीएमके की कनिमोझी, सीपीआई के डी राजा के अलावा जेडीयू के पूर्व अध्यक्ष शरद यादव ने भी विरोध मार्च में हिस्सा लिया. खास बात यह है कि नीतीश कुमार ने नोटबंदी के फैसले का समर्थन किया है, इसको दरकिनार करते हुए शरद यादव जंतर-मंतर पर टीएमसी के धरना प्रदर्शन में शामिल हुए.

शरद-जया बच्चन TMC के धरने में शामिल

संसद भवन के अंदर प्रदर्शन के दौरान विपक्षी नेताओं के हाथों में तख्तियां और प्लेकार्ड थे, जिन पर लिखा था, "नोट बैन सर्जिकल स्ट्राइक नहीं है, यह आम जनता पर कार्पेट बॉम्बिंग है."

वहीं डीएमके नेता कनिमोझी के हाथ में जो तख्ती थी, उस पर लिखा था, "आम जनता पर जुल्म ढाना बंद करो." इसके साथ ही जंतर-मंतर पर दोपहर बाद से विपक्ष के नेता

अवमानना प्रस्ताव पर संवैधानिक सलाह

सीपीएम नेता सीताराम येचुरी ने कहा, "अगर प्रधानमंत्री संसद के बाहर कोई बड़ा नीतिगत एलान करते हैं, तो ऐसे समय में जबकि संसद का सत्र जिसे राष्ट्रपति बुलाते हैं, प्रधानमंत्री को संसद के दोनों सदनों में आकर बयान देना चाहिए. ऐसा अब तक नहीं हुआ है." 

सीपीएम इस मुद्दे पर संवैधानिक सलाह भी ले रही है, कि क्या प्रधानमंत्री के खिलाफ संसद के बाहर नीतिगत मुद्दे पर एलान के बाद संसद में बयान न देने पर अवमानना का नोटिस लाया जा सकता है.

टीएमसी के जंतर-मंतर पर हो रहे धरना प्रदर्शन में विपक्षी पार्टियों के नेता पहुंच रहे हैं. समाजवादी पार्टी की राज्यसभा सदस्य जया बच्चन भी इस प्रदर्शन में शामिल हुईं.

First published: 23 November 2016, 15:03 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी