Home » राजनीति » I want your first-hand view on the decision taken regarding currency notes: PM Modi
 

पीएम मोदी ने नोटबंदी पर जनता से मांगी रेटिंग, नमो ऐप पर दीजिए अपनी राय

कैच ब्यूरो | Updated on: 22 November 2016, 13:00 IST
(कैच)

भारतीय अर्थव्यवस्था में बड़ा कदम माने जा रहे नोटबंदी के फैसले पर पीएम मोदी विपक्ष के निशाने पर हैं. संसद के दोनों सदनों की कार्यवाही एक हफ्ते से बाधित है. विपक्ष सवाल उठा रहा है कि पीएम मोदी संसद सत्र चलने के बावजूद क्यों नहीं वहां आकर अपनी राय देते हैं.

इस बीच पीएम मोदी ने नोटबंदी के फैसले पर जनता की राय जानने के लिए पहल की है. पांच सौ और एक हजार के पुराने नोटों को बंद करने के बाद लोगों को कैश की काफी दिक्कत हो रही है. ऐसे में पीएम मोदी ने इस फैसले पर जनता से प्रतिक्रिया मांगी है.

पीएम मोदी ने नोटबंदी पर जनता का पक्ष जानने के लिए मंगलवार सुबह ट्वीट किया, "पुराने नोटों पर प्रतिबंध लगाने के फैसले पर मैं आपका नजरिया जानना चाहता हूं. नमो ऐप पर हो रहे सर्वे में हिस्सा लीजिए."

पीएम ने जनता से पूछे 10 सवाल

1. नोट बैन पर सरकार के फैसले के बारे में आप क्‍या सोचते हैं?

2. क्‍या आपको लगता है कि भारत में काला धन है?

3. क्‍या आपको लगता है कि भ्रष्‍टाचार और काले धन के खिलाफ लड़ना चाहिए?

4. भ्रष्‍टाचार के खिलाफ सरकार के प्रयास पर क्‍या सोचते हैं? 

5. नोटबंदी के फैसले पर आप क्‍या सोचते हैं?

6. क्‍या नोटबैन से आतंक पर लगाम लगेगी, नोटबंदी से भ्रष्‍टाचार, कालाधन और आतंक रुकेगा? 

7. नोटबंदी के फैसले से उच्‍च शिक्षा, रियल स्‍टेट आम आदमी तक पहुंच सकेगी?

8. नोटबंदी पर असुविधा को आपने कितना महसूस किया?

9. भ्रष्‍टाचार के विरोधी अब इसके समर्थन में लड़ रहे हैं?

10. क्‍या आप कोई सुझाव शेयर करना चाहते हैं?

18 नवंबर तक 5.12 लाख करोड़ जमा

8 नवंबर को रात आठ बजे पीएम नरेंद्र मोदी ने राष्ट्र के नाम अपने संदेश में पांच सौ और एक हजार के पुराने नोट मध्यरात्रि से बंद करने का एलान किया. इसके अगले दिन देश के सभी बैंक बंद रहे.

10 नवंबर को देश के बैंक खुले और वहां लोग अपनी पुरानी करेंसी बदलने के लिए पहुंचने लगे. विमुद्रीकरण के बाद से 18 नवंबर तक बैंकों में कुल पांच लाख 12 हजार करोड़ रुपये जमा हो चुके हैं. रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने सोमवार को यह जानकारी दी है. 

33 हजार करोड़ के पुराने नोट बदले

इसके अलावा आरबीआई ने बताया है कि 10 नवंबर से 18 नवंबर के बीच 33 हजार करोड़ रुपये के पुराने पांच सौ और एक हजार के नोट बदले जा चुके हैं.

पहले सरकार ने साढ़े चार हजार रुपये के पुराने नोट बैंकों में बदले जाने का एलान किया था, लेकिन 18 अक्तूबर से यह सीमा घटकर 2 हजार रुपये हो गई है.

1 लाख 3 हजार करोड़ की निकासी

नोटबंदी के बाद से लोगों को कैश के लिए काफी मुश्किल हो रही है. अभी लोगों को बैंक काउंटर से एक हफ्ते में अधिकतम 24 हजार रुपये निकालने की छूट है. वहीं एटीएम से एक दिन में यह सीमा 2500 रुपये है.

आरबीआई का कहना है कि 10 नवंबर के बाद से बैंक काउंटर और एटीएम के जरिए लोगों ने एक लाख तीन हजार करोड़ रुपये निकाले हैं. हालांकि नोटबंदी के बाद से कतार में लगे लोगों की मौत की भी कई जगह से खबरें आई हैं.

विपक्ष का आरोप, कतार में 70 मौतें

सोमवार को उत्तर प्रदेश के देवरिया और दिल्ली में भी लाइन में लगे एक शख्स की मौत हो गई थी. विपक्ष आरोप लगा रहा है कि नोटबंदी के बाद से 70 से ज्यादा लोग नोट बदलने या पैसे निकालने के दौरान अपनी जान  गंवा चुके हैं.

पीएम मोदी ने आठ नवंबर को अपने एलान के दौरान नोटबंदी के फैसले को काला धन, जाली मुद्रा और आतंकियों को मिल रही वित्तीय मदद के खिलाफ सबसे बड़ी मुहिम बताया था.

First published: 22 November 2016, 13:00 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी