Home » राजनीति » Rajya Sabha adjourned till tomorrow after protests by opposition continue over demonetization
 

नोटबंदी पर संसद में आज़ाद बोले- उरी आतंकी हमले से दोगुने ज़्यादा लोगों ने गंवाई जान

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 November 2016, 15:27 IST
(राज्यसभा)

संसद के शीतकालीन सत्र के दूसरे दिन नोटबंदी के मुद्दे पर राज्यसभा में विपक्ष ने जबरदस्त हंगामा मचाया. कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने कार्यवाही के दौरान मोदी सरकार के फैसले पर सवाल उठाते हुए बयान दिया, जिसका सत्ता पक्ष ने जमकर विरोध किया.

गुलाम नबी आजाद ने राज्यसभा में कहा, "पाकिस्तान के आतंकियों ने उरी में हमारे इससे आधे लोगों को नहीं मारा होगा, जो केंद्र सरकार की नोटबंदी की गलत नीति की वजह से अपनी जान गंवा चुके हैं."

कांग्रेस नेता आजाद ने कहा कि नोटबंदी के फैसले के बाद अब तक तकरीबन 40 लोगों की मौत हो चुकी है. देश भर में सरकार के फैसले से नाराजगी है.

आजाद के इस बयान के बाद भाजपा के सदस्यों ने शोरगुल शुरू कर दिया. इस दौरान पक्ष और विपक्ष के सदस्यों में तकरार देखने को मिली. विपक्षी सदस्य हंगामे के बीच सभापति के वेल के पास आ गए.

नायडू बोले- माफी मांगें आजाद

गुलाम नबी आजाद ने कहा कि प्रधानमंत्री का नोटबंदी का लिया गया फैसला लोगों की मौत के लिए जिम्मेदार है. आजाद ने कहा, "जब तक प्रधानमंत्री इस मुद्दे पर चर्चा के लिए सदन में नहीं आएंगे, हम राज्यसभा की कार्यवाही को नहीं चलने देंगे."

आजाद के बयान पर केंद्रीय मंत्री वेंकैया नायडू ने राज्यसभा में कड़ी आपत्ति जताई. नायडू ने कहा, "विपक्ष के नेता पाकिस्तान की ओर से किए गए आतंकी हमले से नोटबंदी के फैसले की तुलना करके देश का अपमान कर रहे हैं. उन्हें अपने बयान पर माफी मांगनी चाहिए." 

इस बीच आजाद के बयान के बाद मचे हंगामे को देखते हुए सभापति ने शुक्रवार तक के लिए राज्यसभा की कार्यवाही स्थगित कर दी. गौरतलब है कि 19 सितंबर को उरी में हुए आतंकी हमले में सेना के 19 जवान शहीद हो गए थे.

First published: 17 November 2016, 15:27 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी