Home » राजनीति » DIg D.Roopa's transfer: Karnataka CM Siddaramaiah says is not necessary to disclose everything to the media
 

शशिकला VIP ट्रीटमेंट: DIG के ट्रांसफर के सवाल पर भड़के सीएम सिद्धारमैया

कैच ब्यूरो | Updated on: 17 July 2017, 15:59 IST

कर्नाटक में सीएम सिद्धारमैया के नेतृत्व वाली सरकार ने बेंगलुरु की केंद्रीय जेल में बंद एआईएडीएमके प्रमुख शशिकला को मिल रहे वीवीआईपी ट्रीटमेंट का पर्दाफाश करने वाली डीआईजी रूपा का ट्रांसफर कर दिया है. डीआईजी रूपा को उनके सख्त रवैये के लिए जाना जाता है. 

राज्य के कार्मिक विभाग द्वारा जारी आदेश के अनुसार, डी रूपा आईपीएस (कर्नाटक 2000 बैच), पुलिस उप महानिरीक्षक (डीआईजी) को तत्काल प्रभाव से ट्रैफिक और सड़क सुरक्षा के आयुक्त आईपीएस एएसएन मूर्ति के स्थान पर अगले आदेश तक पुलिस महानिरीक्षक (आईजीपी) के रूप में स्थानांतरित किया जाता है.

डीआईजी रुपा के ट्रासंफर के सवाल पर सीएम सिद्धारमैया ने मीडिया से कहा, "ये एक प्रशासनिक प्रकिया है. ज़रूरी नहीं कि मीडिया को हर चीज की पूरी जानकारी दी जाए."

मुख्‍यमंत्री ने मैसुरू में मीडिया से कहा, "मीडिया के साथ विवरण साझा करना उनकी तरफ से अनुचित है." उन्होंने कहा कि मुख्यधारा और सोशल मीडिया पर आरोपों से पुलिस विभाग शर्मसार हुआ है.

तमिलनाडु की दिवंगत सीएम जयललिता की जेल में बंद सहयोगी शशिकला नटराजन उस समय नई मुसीबत में फंस गई, जब उन पर जेल में अपने लिए स्पेशल किचन बनवाने के लिए दो करोड़ रुपये की रिश्वत देने का खुलासा डीआईजी ने किया.

डीआईजी जेल रूपा ने अपने सीनियर डीजीपी जेल को चिट्ठी लिखकर इस स्पेशल किचन की जानकारी दी थी. रूपा ने अपनी इस रिपोर्ट में लिखा था कि, "अधिकारियों का कहना है कि डीजीपी की जानकारी के बावजूद ऐसा हो रहा है और स्पेशल किचन के लिए दो करोड़ रुपये की डील हुई है. इस डील में ख़ुद डीजीपी भी शामिल हैं."

10 जुलाई को केंद्रीय कारागार का निरीक्षण करने के बाद डीआईजी रूपा ने डीजीपी को ये चिट्ठी लिखी. डीआईजी रूपा ने कुछ सप्‍ताह पहले ही जेल विभाग में डीआईजी के रूप में ज्‍वाइन किया था और उन्‍होंने 10 जुलाई को सेंट्रल जेल का गहन निरीक्षण किया था. शशिकला आय से अधिक संपति के मामले में बेंगलुरु सेंट्रल जेल में बंद हैं.

First published: 17 July 2017, 15:59 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी