Home » राजनीति » election commission of india announce dates and process of president election.
 

'रायसीना हिल्स' की रेस: 17 जुलाई को राष्ट्रपति चुनाव, जानिए पहली बार क्या होगा?

कैच ब्यूरो | Updated on: 8 June 2017, 16:24 IST
presidentofindia.nic.in

17 जुलाई को भारत के अगले राष्ट्रपति का चुनाव होगा. राष्ट्रपति चुनाव में बैलट पेपर का इस्तेमाल होगा. इस चुनाव में सांसद और विधायक बैलट पेपर पर सही का निशान लगा कर अपने वोट का इस्तेमाल करेंगे. चुनाव में सही का निशान लगाने वाला पेन और उसमें इस्तेमाल की जाने वाली स्याही भी एकदम खास होगी. ये स्याही भी आम मतदान के पहले उंगली पर लगाई जाने वाली स्याही की तरह ही होगी.

दरअसल देश भर में होने वाले चुनाव में मतदान EVM और VVPAT से होता है, लेकिन हाल ही में पांच राज्यों के चुनाव के रिजल्ट आने के बाद अरविंद केजरीवाल, मायावती समेत कई राजनीतिक दलों के नेताओं ने ईवीएम से छेड़छाड़ की आशंका जताई थी.

राष्ट्रपति चुनाव में पहली बार पेन का इस्तेमाल

राष्ट्रपति चुनाव में ऐसा पहली बार हो रहा है जब ऐसे पेन और इस खास स्याही का इस्तेमाल होगा. खास स्याही और पेन को लेकर विवाद साल 2015 में हरियाणा से राज्यसभा सदस्य के चुनाव के दौरान सामने आया था. राज्यसभा सदस्य के चुनाव में मतदान के बाद कांग्रेस विधायकों ने आरोप लगाया था कि उन्होंने जिस रंग की स्याही से सही का निशान लगाया वो अलग था.

हरियाणा से विवाद सामने आने के बाद चुनाव आयोग ने तय किया था कि आगामी राज्यसभा, विधान परिषद , राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति चुनाव के लिए विशेष स्याही वाले खास पेन का इस्तेमाल किया जाएगा.

 

17 जुलाई को राष्ट्रपति पद के लिए वोटिंग

चुनाव आयोग के मुख्य आयुक्त नसीम जैदी ने बुधवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान बताया, "14 जून को राष्ट्रपति चुनाव का नोटफिकेशन जारी होगा. 28 जून तक राष्ट्रपति के उम्मीदवार के नामांकन की आखिरी तारीख है. नामांकन वापस लेने की आखिरी तारीख 1 जुलाई है. वहीं 17 जुलाई को राष्ट्रपति पद के लिए वोट डाले जाएंगे. 20 जुलाई को मतगणना होगी."

जुलाई में खत्म होगा प्रणब मुखर्जी का कार्यकाल

भारत के वर्तमान राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी का कार्यकाल 24 जुलाई 2017 को समाप्त हो रहा है. अगले महीने देश के 14वें राष्ट्रपति को चुना जाएगा.

विपक्षी दलों में अब तक राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार को लेकर आम सहमति नहीं बन पाई है, जबकि केंद्र सरकार भी अपनी पार्टी और सहयोगी दलों के साथ राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार को लेकर आम सहमति बनाने में जुटी है.

First published: 8 June 2017, 16:14 IST
 
अगली कहानी