Home » राजनीति » Exclusive Interview of Ex UP Congress President Rita Bahuguna Joshi: Rahul Gandhi was unable to proove himself
 

इंटरव्यूः रीता बहुगुणा जोशी बोलीं राहुल गांधी खुद को साबित नहीं कर पाए

पत्रिका ब्यूरो | Updated on: 20 October 2016, 19:37 IST

उत्तर प्रदेश कांग्रेस की अध्यक्ष रह चुकी रीता बहुगुणा जोशी गुरुवार को भारतीय जनता पार्टी में शामिल हो गईं. इस बड़ी नेता के कांग्रेस छोड़ने का क्या कारण रहा और भाजपा में उन्हें क्या संभावनाएं दिख रही हैं, इस मसले पर उनसे पत्रिका संवाददाता अमित शर्मा की बातचीत हुई. पेश है बातचीत के प्रमुख अंश.

रीता जी, आज का सबसे बड़ा सवाल यही है कि आपने कांग्रेस क्यों छोड़ी?

देखिये, मैं सबसे पहले तो यह कहना चाहती हूं कि मैं किसी से नाराज नहीं हूं. यह पूरी तरह से मेरा व्यक्तिगत निर्णय है. दूसरी बात, आज उत्तर प्रदेश जिस जातीय राजनीति के दलदल में फंसा हुआ है, जिस भ्रष्टाचार की अति हो गयी है. उससे अगर कोई यूपी को छुटकारा दिला सकता है तो वह भाजपा ही है. इसलिए जब मैंने कांग्रेस छोड़ने का फैसला किया तब भाजपा ही मेरे लिए पहली पसंद बनी.

क्या राहुल गांधी फेल हो गए, वे उत्तर प्रदेश में बहुत मेहनत करते दिख रहे हैं. ऐसे समय में आप जैसे कद्दावर नेता का साथ छोड़ना नकारात्मक संदेश देने वाला है?

राहुल गांधी जी यूपी में बहुत मेहनत कर रहे हैं, इस बात में कोई शक नहीं है. लेकिन एक सच्चाई यह है वे जनता के बीच अपनी स्वीकार्यता साबित नहीं कर पा रहे हैं. उन्हें कई बार कई जगह मौके मिले, लेकिन वे खुद को साबित नहीं कर पाए. ऐसे में अब करने के लिए कांग्रेस में कुछ बचा नहीं है. इसलिए अब मैंने भाजपा ज्वाइन किया.

क्या गांधी परिवार से कोई नाराजगी है?

नहीं, बिलकुल नहीं. मैंने पहले ही कहा मुझे किसी से कोई नाराजगी नहीं है. हां! एक बात जरूर है कि कुछ लोगों के पार्टी में बेवजह बढ़ते प्रभाव से पुराने लोगों को काम करने में दिक्कत आ रही है. ऐसे में वे लोग खुद को पार्टी में उपेक्षित महसूस कर रहे हैं. इससे ज्यादा मैं इस मुद्दे पर कुछ कहना नहीं चाहती.

आप हमेशा भाजपा की विचारधारा का विरोध करती आई हैं, क्या अब ऐसे में काम करने में दिक्कत नहीं आएगी?

देखिए, हम सबके लिए सबसे पहले देश आता है, विचारधारा दूसरे नंबर की बात है. दूसरी बात किसी भी पार्टी में हर तरह के लोग होते हैं. कुछ लोग बहुत कट्टर होते हैं, तो कुछ लोग उदार होते हैं. ऐसे में मेरी अपनी एक विचारधारा है, मैं उसके हिसाब से काम करूंगी.

सेना की सीमा पर की कार्रवाई पर कांग्रेस का स्टैंड अलग रहा, उसके बारे में कुछ कहना चाहेंगी?

आप मेरे वीडियो फुटेज उठाकर देख लीजिये. मैंने सेना की कार्रवाई का कभी विरोध नहीं किया. जिस समय देश को एक साथ खड़े होना चाहिए उस समय सेना से सबूत मांगना बिल्कुल वाहियात हरकत है. ऐसे समय में जब इस मुद्दे पर हमारे पड़ोसी देश सहित पूरी दुनिया के लोग हमारे साथ खड़े हों, वैसे समय में सेना या सरकार की खिलाफत करना किसी भी तरह उचित नहीं है.

अंतिम सवाल, क्या भाजपा में आने के लिए आपके भाई विजय बहुगुणा ने भूमिका निभाई? भाजपा में आने के लिए किसी तरह का वायदा किया गया है?

नहीं, विजय जी की इसमें कोई भूमिका नहीं है. यह पूरी तरह से मेरा निर्णय है. मैंने भाजपा में आने के लिए कोई शर्त नहीं रखी है. पार्टी जो भी काम देगी, वही काम करूंगी.

First published: 20 October 2016, 19:37 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी