Home » राजनीति » Fodder scam case: Lalu prasad Yadav attacks bjp on tweets after convicted by cbi special court ranchi
 

'कमल का फूल ऑल्वेज़ बनाविंग अप्रैल फूल'

कैच ब्यूरो | Updated on: 23 December 2017, 18:18 IST

शनिवार का दिन राष्ट्रीय जनता दल के प्रमुख लालू प्रसाद यादव के लिए बुरी खबर लेकर आया. बिहार के बहुचर्चित चारा घोटाले के एक मामले में रांची में सीबीआई की स्पेशल कोर्ट ने उन्हें दोषी करार दिया. कोर्ट अब लालू सहित अन्य आरोपियों पर सजा का फैसला अगले साल 3 जनवरी को सुनाएगी.

कोर्ट के फैसले के बाद लालू यादव को रांची की बिरसा मुंडा जेल में भेज दिया गया है. एसे में लालू का नया साल जेल में बीतेगा. चारा घोटाले के एक मामले में फिलहाल लालू को सुप्रीम कोर्ट से जमानत मिली हुई है, लेकिन शनिवार को एक और मामले में फैसला आने के बाद उन्हें जमानत लेनी होगी.

लालू यादव ने दोषी करार दिए जाने के बाद ट्वीट कर भाजपा पर हमला बोला. लालू ने अपने एक ट्वीट मे लिखा , "कमल का फूल ऑल्वेज़ बनाविंग अप्रैल फूल. रहना कूल ना करना भूल, चटाना धूल."

लालू ने एक अन्य ट्वीट में लिखा, "साथ हर बिहारी है अकेला सब पर भारी है सच की रक्षा करने को लालू का संघर्ष जारी है. मरते दम तक सामाजिक न्याय की लड़ाई लड़ता रहूँगा. जगदेव बाबू ने गोली खाई, हम जेल जाते रहते हैं लेकिन मैं झुकूंगा नहीं. लड़ते-लड़ते मर जाऊंगा लेकिन मनुवादियों को हराऊंगा."

लालू ने सीबीआई कोर्ट द्वारा सजा सुनाए जाने के बाद पहला ट्वीट कर लिखा, "धूर्त भाजपा अपनी जुमलेबाज़ी व कारगुज़ारियों को छुपाने और वोट प्राप्त करने के लिए विपक्षियों का पब्लिक पर्सेप्शन बिगाड़ने के लिए राजनीति में अनैतिक और द्वेष की भावना से ग्रस्त गंदा खेल खेलती है."

दरअसल करीब 900 करोड़ रुपये के चारा घोटाले में देवघर कोषागार से अवैध निकासी के एक मामले में लालू समेत 15 लोगों को दोषी करार दिया गया है. इस फैसले ने लालू के राजनीतिक भविष्य पर भी सवाल उठा दिए हैं." इस मामले में कोर्ट ने 6 लोगों को बरी कर दिया है. इनमें बिहार के पूर्व सीएम जगन्नाथ मिश्र भी शामिल हैं.

चारा घोटाले के इस मामले में दोषी करार

साल 1990 से 1994 के बीच देवघर कोषागार से 89 लाख, 27 हजार रुपये का फर्जीवाड़ा करके अवैध ढंग से पशु चारे के नाम पर निकासी के मामले में लालू समेत 22 लोग आरोपी हैं. सीबीआई ने 27 अक्तूबर, 1997 को इन सबके खिलाफ मुकदमा दर्ज किया था. 21 साल बाद इस मामले में शनिवार को फैसला आ रहा है. बिहार में हुए चारा घोटाले के वक्त लालू प्रसाद यादव बिहार के मुख्यमंत्री थे.

हम आपको बता दें कि लालू यादव को को चारा घोटाले के एक मामले में सज़ा हो चुकी है. लालू प्रसाद यादव को साल 2012 में 900 करोड़ रुपये के चारा घोटाले में चाईबासा कोषागार से 37 करोड़, 70 लाख रुपये की अवैध ढंग से निकासी करने के मामले मे 5 साल की सजा हो चुकी है. इस समय उन्हें सुप्रीम कोर्ट से इस मामले में जमानत मिली है. 

First published: 23 December 2017, 18:18 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी