Home » राजनीति » Former BSP leader Nasimuddin criticise chief Mayawati
 

बहनजी पर हमलावर हुए नसीमुद्दीन सिद्दीकी, आज बड़े खुलासे का एलान

कैच ब्यूरो | Updated on: 11 May 2017, 10:09 IST
Nasimuddin

उत्तर प्रदेश के पूर्व कैबिनेट मंत्री और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) से निष्कासित नसीमुद्दीन सिद्दीकी ने बसपा प्रमुख मायावती पर आरोप लगाते हुए कहा है कि तथ्यहीन और अनर्गल आरोपों के आधार पर उन्हें निष्कासित किया गया है. इसके साथ ही उन्होंने बड़े खुलासे का दावा करते हुए कहा कि वह प्रमाण के साथ मायावती पर सभी आरोप साबित करेंगे.

नसीमुद्दीन सिद्दीकी ने एक बयान में कहा है कि वह इस समय लखनऊ से बाहर हैं. लखनऊ आने के बाद गुरुवार को वह प्रमाण के साथ मायावती के लगाए आरोपों का जवाब प्रेस कॉन्फ्रेंस के जरिए देंगे.

सिद्दीकी ने बयान में कहा है, "मैं समझता हूं कि इस निष्कासन से मेरे और मेरे परिवार की और मेरे सहयोगियों की बहुजन समाज पार्टी में 34-35 साल की कुर्बानी का सिला मुझे दिया गया है. मैंने इस मिशन के लिए और मायावती के लिए खास तौर पर इतनी कुर्बानी दी है, जिसकी मैं गिनती नहीं कर सकता."

नसीमुद्दीन ने आरोप लगाया, "मायावती, उनके भाई आनंद कुमार और सतीश चंद्र मिश्रा द्वारा अवैध रूप से, अनैतिक रूप से और मानवता से परे कई बार ऐसी मांगें की गईं, जो मेरे बस में नहीं थीं. कई बार मुझे मानसिक प्रताड़ना दी गई, टॉर्चर किया गया, जिसके पुख्ता प्रमाण मेरे पास हैं."

नसीमुद्दीन ने कहा, "2009 और 2014 के लोकसभा चुनाव और 2012 व 2017 के विधानसभा चुनाव में पार्टी को मायावती की गलत नीतियों के कारण सफलता नहीं मिली. उन्होंने मुसलमानों पर गलत झूठे आरोप लगाए."

उन्होंने कहा, "2017 के चुनाव से काफी पहले से मैंने पार्टी के लिए जो प्रयास किए, उसी का नतीजा था कि बसपा को 22 प्रतिशत से अधिक वोट मिले. नहीं तो स्थिति और बदतर होती. शिकस्त के बाद मायवती ने मुझे बुलाया और अपर कास्ट, बैकवर्ड को बुरा-भला कहने के साथ ही खास तौर पर मुसलमानों के लिए अपशब्द कहे, जिसका मैंने विरोध किया था."

First published: 11 May 2017, 10:09 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी