Home » राजनीति » Former RBI governor Raghuram Rajan raised questions on PM Modi's claim in Davos
 

दावोस में PM मोदी के किस दावे पर पूर्व RBI गवर्नर रघुराम राजन ने उठाये सवाल

कैच ब्यूरो | Updated on: 27 January 2018, 17:01 IST

दावोस में वर्ल्ड इकनॉमिक फोरम के दौरान पीएम मोदी के भाषण की खूब धूम रही. इस दौरान पीएम कहा कि 'भारत में लोकतंत्र, बहुरंगी आबादी और गतिशीलता (डिमॉक्रेसी, डिमॉग्रफी ऐंड डायनमिजम) देश का भाग्य तय कर रहे हैं और इसे विकास के रास्ते पर अग्रसर कर रहे हैं.' एक इंटरव्यू के दौरान आरबीआई के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन ने मोदी के इस बयान पर सवाल उठाया. गौरतलब है कि राजन खुद दावोस में मौजूद थे. 

इकोनॉमिक टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार राजन ने इस बात पर संदेह व्यक्ति किया कि मोदी सरकार के कामकाज के तरीके वाकई लोकतांत्रिक हैं. राजन ने कहा कि मोदी सरकार में सिर्फ एक छोटा सा गुट सारे फैसले ले रहा है जबकि नौकरशाहों को दरकिनार कर दिया गया है.

 

राजन ने कहा कि मोदी सरकार को इन्फ्रास्ट्रक्चर प्रॉजेक्ट्स को पूरा करने लिए राजनीतिक इच्छाशक्ति की जरूरत थी. उन्होंने कहा, 'मैं चिंतित हूं कि नौकरशाही के फैसलों पर काम नहीं हो रहा है. (वित्त मंत्री) जेटली बाधाएं दूर करने की प्रतिबद्धता कई बार दुहरा चुके हैं. मसलन, नौकरशाह इस बात से डरे हैं कि कहीं उनपर भ्रष्टाचार का आरोप न लग जाए, लेकिन हम ऐसा कर क्यों रहे हैं? तो, यह एक समस्या है- नौकरशाही का फैसला नहीं लेना.''

राजन ने आगे कहा, 'हमें यह पूछने की भी जरूरत है कि क्या चीजें बहुत ज्यादा केंद्रित हो रही हैं और क्या हम लोगों के एक छोटे से समूह द्वारा अर्थव्यवस्था को चलाना चाहते हैं तथा क्या हमारे पास 2.5 ट्रिलियन डॉलर की इकॉनमी को मैनेज करने की पर्याप्त क्षमता है?'

भारत की अर्थव्यवस्था दुनिया में सबसे तेज गति सेबढ़ने वाली रिपोर्ट पर राजन ने कहा, 'हमें खुद से यह पूछने की जरूरत है कि हमें विकास करने की जरूरत क्यों है? दरअसल, हमें विकास करने की जरूरत जॉब्स क्रिएट करने के लिए है जिनकी युवाओं को जरूरत है.

क्या इस स्तर के विकास पर भी हम वे नौकरियां पैदा कर पा रहे हैं? अगर हमें वाकई में नौकरियां पैदा करनी हैं तो इन्फ्रास्ट्रक्चर, कंस्ट्रक्शन आदि जैसी बड़े पैमाने पर नौकरियां देनेवाली गतिविधियों में बड़ा निवेश करना होगा.'

First published: 27 January 2018, 17:01 IST
 
अगली कहानी