Home » राजनीति » Goa: Legal ban on holding parties after 10 pm CM Manohar Parrikar ensures
 

गोवा में पर्रिकर राज: 'पार्टी यूंं न चालेगी'

कैच ब्यूरो | Updated on: 14 April 2017, 17:51 IST

गोवा में पार्टी ख़त्म होने वाली है. भले ही देश अभी कांग्रेस मुक्त नहीं हो पाया हो, लेकिन क्या गोवा रात दस बजे के बाद पार्टी मुक्त होने की राह पर है. ऐसा हम इसलिए कह रहे हैं क्योंकि पार्टी और नाइट लाइफ के लिए दुनिया भर में मशहूर गोवा में मनोहर पर्रिकर सरकार ने रात दस बजे की डेडलाइन को तामील करने पर सख्ती बरतने के संकेत दिए हैं.  

मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर ने साफ किया है कि कोई भी लेट नाइट पार्टी जैसी गतिविधि जिसकी कानून इजाजत नहीं देता है उसको सरकार सख्ती से रोकेगी. समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक पर्रिकर ने कहा, "राज्य में दस बजे के बाद पार्टी आयोजित करने पर कानूनन प्रतिबंध लगा हुआ है. इस बैन को राज्य सरकार ने बरकरार रखा है." 

'लेट नाइट पार्टियों पर सख्ती होगी'

पर्रिकर का ये बयान ऐसे वक्त में आया है जब कुछ ही दिन पहले गोवा के जल संसाधन मंत्री विनोद पालिएकर ने बीच पर होने वाली रेव पार्टी पर बैन लगाने की मांग की थी. इन पार्टियों में अक्सर ड्रग के इस्तेमाल की शिकायत मिलती रही है. उनकी दलील थी कि समुद्र तट ड्रग तस्करी का अड्डा बनते जा रहे हैं और इस पर कोई नियंत्रण नहीं लग पा रहा है.

पर्रिकर के मंत्री ने कहा, "ये पार्टियां हमारे कल्चर के खिलाफ हैं. हमें इन्हें फौरन रोकने की जरूरत है. पुलिस अपने काम को ठीक तरीके से नहीं कर पा रही है." इस पर पर्रिकर ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि पालिएकर ने जो कहा है उसका कोई मतलब नहीं है, क्योंकि इस पर पहले से ही बैन है. पर्रिकर ने गोवा पुलिस को ड्रग कारोबार और लेट नाइट पार्टियों पर सख्ती बरतने को कहा है. 

'महिलाओं से अपराध बर्दाश्त नहीं'

पर्रिकर ने कहा, "सब्जी की खरीदारी के अलावा ऐसी सभी गतिविधियों और बिक्री को हाईवे पर रोकने के लिए कहा गया है." पर्रिकर ने साथ ही महिलाओं के खिलाफ अपराध पर काबू पाने का भरोसा दिलाते हुए कहा, "राज्य में महिलाओं से अपराध बर्दाश्त नहीं किए जाएंगे. ऐसे मामलों में हर शिकायत पर कायदे से जांच की जाएगी और कड़ी कार्रवाई होगी."

गौरतलब है कि मनोहर पर्रिकर ने 14 मार्च को गोवा के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली थी. इससे पहले उन्होंने रक्षा मंत्री के पद से अपना त्यागपत्र दे दिया था.

First published: 14 April 2017, 16:58 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी