Home » राजनीति » Gujarat Assembly Election: Voting for Gujarat Election ends as the second phase polling concludes
 

गुजरात में संपन्न हुआ चुनाव, 18 दिसंबर को हिमाचल प्रदेश के साथ आएगा फैसला

हेमराज सिंह चौहान | Updated on: 14 December 2017, 18:54 IST

गुजरात में विधानसभा चुनाव दूसरे चरण की वोटिंग के साथ संपन्न हो गया है. गुरुवार को शाम 5 बजे दूसरे चरण की वोटिंग खत्म हो गई. गुजरात में दूसरे चरण में 93 सीटों पर मतदान हुआ. इस चरण में गुजरात के 14 जिलों में मतदान हुआ. गुजरात के दूसरे चरण में हुए मतदान के आधिकारिक आकड़े फिलहाल नहीं आए हैं, पर जिस तरह पोलिॆग बूथ में लंबी लाइनें दिखीं, उससे संभावना जताई जा रही कि इस चरण में पहले से ज्यादा वोटिंग प्रतिशत रहा होगा.

हम आपको बता दें कि गुजरात में 9 दिसंबर को पहले चरण के लिए 79 सीटों पर मतदान हुआ था. इस चरण में 89 सीटों पर मतदान हुआ था. पहले चरण में 66.75 प्रतिशत लोगों ने अपने वोट का इस्तेमाल किया था. हालांकि ये 2012 में हुए मतदान से कम था. हम आपको बता दें कि गुजरात में कुल 182 सीटें हैं.

गुजरात में दूसरे चरण में कई दिग्गजों की किस्मत का फैसला ईवीएम में कैद हो गया है. इस चरण में मेहसाणा से उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल, राधनपुर से कांग्रेस के अल्पेश ठाकोर और वडगाम सीट से कांग्रेस समर्थित निर्दलीय उम्मीदवार जिग्नेश मेवाणी मैदान में उतरे हैं.

गुजरात के निर्वाचन अधिकारी ने जानकारी दी कि दोपहर दो बजे तक 47.40 प्रतिशत वोटिंग हो चुकी थी. गुजरात के चुनाव निर्वाचन अधिकारी ने ये भी बताया कि हमें पीएम मोदी के वोट देने के बाद लोगों से मिलने संबधित शिकायत मिली हैं, इसमें पीएम मोदी के लोगों से मिलने को रोड शो की तरह बताया गया है. ये शिकायत जिला निर्वाचन अधिकारी अहमदाबाद को दे दी गई है.

गुजरात विधानसभा चुनाव में भाजपा और कांग्रेस में सीधी टक्कर है. पीएम मोदी और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने अपने गृहराज्य में जमकर चुनाव प्रचार किया. इसमें उन्होंने कांग्रेस के वंशवाद पर जमकर हमला बोला. पीएम मोदी ने राहुल गांधी के राष्ट्रीय अध्यक्ष के चुनाव को औरंगजेब राज कहा. उन्होंने ये टिप्पणी मणिशंकर के एक बयान के बाद कही. इसके अलावा उन्होंने गुजरात के विकास के लिए भाजपा की सरकार को ज़रूरी बताया और अपनी सरकार के काम गिनाए.

वहीं, दूसरी तरफ कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने अपनी ताजपोशी के बीच गुजरात में जमकर चुनाव प्रचार किया. वो इस दौरान गुजरात के कई इलाकों में घूमे. राहुल ने इस चुनाव में कई मंदिरोें के दर्शन किए. इसे लेकर विपक्ष ने उन पर साफ्ट हिंदुत्तव की राजनीति के आरोप लगाए. इसके जवाब में राहुल ने कहा कि उनका परिवार शिव की उपासना लंबे समय से करता है और वो दिखावे की राजनीति नहीं करते हैं.

पूरे चुनाव के दौरान उन्होंने जीएसटी और नोटबंदी को चुनाव में प्रमुख मुद्दा बनाया. इसके अलावा राहुल ने सोशल मीडिया पर भी पीएम मोदी को घेरा. इसी रणनीति के तहत उन्होंने पीएम मोदी से ट्विटर पर रोज एक सवाल पूछा. उन्होंने पीएम मोदी से 10 सवाल पूछे जो बेरोजगारी, किसानों से लेकर आदिवासियों पर थे.

 

फाइल फोटो

गुजरात चुनाव में इस बार पाटीदार आरक्षण भी मुख्य मुद्दा रहा. पाटीदार नेता हार्दिक पटेल ने पूरे गुजरात में रैलियां कर भाजपा को हराने की अपील गुजरात की जनता से की. उनके अलावा ओबीसी नेता अल्पेश ठाकोर ने कांग्रेस में शामिल हुए. ऊना कांड के बाद दलित नेता के तौर पर उभरे जिग्नेश मेवाणी ने भी इस चुनाव में भाजपा के खिलाफ प्रचार किया. वो निदर्लीय के तौर पर चुनाव लड़ रहे हैं. उन्हें कांग्रेस ने अपना समर्थन देते हुए उनके खिलाफ उम्मीदवार उतारा है. ये तीनों नेता इस चुनाव में युवा तुर्क के तौर पर उभरे हैं.

गौरतलब है कि गुजरात में पिछले दो दशक से भाजपा की सरकार रही हैै. और पीएम मोदी खुद प्रधानमंत्री बनने से पहले गुजरात में सीएम के तौर पर लंबी पारी खेल चुके हैं. उनके नेतृत्व में गुजरात में भाजपा ने जीत की हैट्रिक लगाई थी.

साल 2012 में हुए पिछले विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को 61 सीटें मिली थीं जबकि भाजपा ने 115 सीटों पर जीत हासिल कर सरकार बनाई थी. कांग्रेस में कुल 182 सीट हैं. इस बार कांग्रेस को राज्य में वापसी की उम्मीद है. वहीं, भाजपा का दावा है कि वो 150 से ज्यादा सीटें जीतेगी.

First published: 14 December 2017, 18:54 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी