Home » राजनीति » Gujarat: On Modi protest Hardik patel shaved his head
 

हार्दिक पटेल ने मोदी के गुजरात दौरे के विरोध में मुंडवाया सिर

कैच ब्यूरो | Updated on: 22 May 2017, 15:38 IST
Hardik Patel

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दो दिवसीय गुजरात दौरे के विरोध में पाटीदार आंदोलन के नेता हार्दिक पटेल ने अपने पचास सहयोगियों के साथ मुंडन कराया.

सामूहिक मुंडन के समय हार्दिक ने कहा, "पास के 50 सदस्यों के साथ मैंने इस सरकार द्वारा हमारे समुदाय के सदस्यों पर पिछले दो वर्षों में किए गए अत्याचार को उजागर करने के लिए अपना सिर मुंडवाने का फैसला किया. अब हम न्याय मांगने के लिए न्याय यात्रा पर निकल रहे हैं."  

50 गांवों में मार्च

बोटाड से शुरू हुआ मार्च तकरीबन 50 गांवों से होकर गुजरेगा और पड़ोसी भावनगर शहर में खत्म होगा. हार्दिक पटेल का कहना है कि प्रधानमंत्री ने जिस सोनी योजना की शुरुआत एक महीने पहले की थी, उसी योजना में आज पानी नहीं है.

इसके साथ ही हार्दिक ने आरोप लगाया कि भाजपा और प्रधानमंत्री सिर्फ बड़ी-बड़ी बातें करते हैं. हालांकि सच्चाई वहां कुछ ओर होती है. इसलिये बोटाड में उसी जगह मुंडन करवाया है, जहां प्रधानमंत्री पिछली बार आए थे.

प्रधानमंत्री दो दिन के दौरे पर सोमवार को गुजरात पहुंचे. हार्दिक पटेल का आरोप है कि पाटीदार युवाओं पर 2015 के आंदोलन के दौरान हुई ज्यादतियों की जांच के लिए सरकार सक्रिय नहीं है. इसके साथ ही उन्होंने कहा कि भावनगर के मांडवी हत्याकांड और अन्य घटनाओं में भी जांच सही दिशा में नहीं हो रही है. ऐसे में दोबारा राज्य में पाटीदार आंदोलन को तेज करने के प्रयास में उन्होंने न्याय यात्रा निकाली है. 

भाजपा का खिसकेगा पाटीदार वोट बैंक?

इसी साल गुजरात में विधानसभा चुनाव होने जा रहे हैं. ऐसे माहौल में पाटीदार आंदोलन पर सबकी नजरें हैं और पाटीदार भी चुनाव के वक्त अपनी मांगों को लेकर सरकार पर दबाव बनाने की तैयारी कर रहे हैं. ये सारी तैयारी चुनावों के मद्देनजर पाटीदारों को फिर से इकट्ठा करने के लिए की जा रही है.

पाटीदार समाज पारंपरिक तौर पर भाजपा का वोटर रहा है. ऐसे में पाटीदारों का खिसकना मोदी के गृहराज्य में भाजपा के लिए मुश्किल खड़ी कर सकता है. वहीं कुछ दिन पहले हार्दिक ने गुजरात में फिर से आरक्षण की मांग को लेकर आंदोलन शुरू करने की घोषणा की थी और कहा था कि उनका मुख्य लक्ष्य आगामी विधानसभा चुनावों में सत्तारूढ़ भाजपा को हराना है.

First published: 22 May 2017, 15:38 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी