Home » राजनीति » hardik patel gives offer to bjp led gujarat govt deputy cm nitin patel to join congress with 10 mla in patidar meeting,vijay rupani,cabinet,
 

हार्दिक पटेल ने डिप्टी सीएम नितिन पटेल को भाजपा छोड़ने के लिए दिया बड़ा ऑफर

कैच ब्यूरो | Updated on: 30 December 2017, 13:19 IST

गुजरात में हाल हुए में विधानसभा चुनावके बाद बहुमत पाकर सरकार बनाने वाली भाजपा की विजय रुपाणी सरकार बड़े संकट में घिर गई है. गुजरात में कैबिनेट मंत्रालय के बंटवारे से गुजरात के डिप्टी सीएम नितिन पटेल नाराज़ चल रहे है. नितिन पटेल ने विजय रुपाणी को उनके मनमाफिक मंत्रालय देने के लिए 48 घंटे का समय दिया है. वहीं एनडीटीवी की खबर के मुताबिक नितिन पटेल जल्द ही डिप्टी सीएम पद से इस्तीफा देने वाले हैं.

नितिन पटेल की नाराजगी की खबरों के बीच गुजरात के उभरते युवा पाटीदार नेता हार्दिक पटेल ने नितिन पटेल को बड़ा ऑफर दिया है. हार्दिक ने कहा कि अगर भाजपा नितिन पटेल के साथ सम्मानजनक व्यवहार नहीं कर रही है तो वो 10 भाजपा विधायको के साथ कांग्रेस में शामिल हो सकते हैं. 

हार्दिक ने बोटाड में पाटीदार अनामत आंदोलन समिति की बैठक से पहले ये बयान दिया. उन्होंने सभी पटेल नेताओं से नितिन पटेल का साथ देने की अपील की. हार्दिक ने कहा कि नितिन पटेल अगर अपने 10 एमएलए के साथ कांग्रेस में शामिल हो जाते हैं, तो वो कांग्रेस ने उन्हें पार्टी में उपयुक्त पद देने के लिए बात करेंगे.

वित्त मंत्रालय ना मिलनेे से नाराज हैं नितिन पटेल

नितिन पटेल की जगह इस बार वित्त मंत्रालय सौरभ पटेल को दिया गया है. इसके अलावा उनसे पिछली सरकार में मिले राजस्व मंत्रालय के साथ कई अहम मंत्रालय छीने गए हैं. इस बात नितिन पटेल इतने नाराज हैं कि नई सरकार की पहली कैबिनेट मीटिंग में वो विजय रूपाणी के उनके घर जाकर समझाने के बाद चार घंटे देरी से पहुंचे.

पहले कैबिनेट की ये सरकार बनने के बाद पहली मीटिंग शाम 5 बजे से होनी थी. नितिन पटेल की नाराजगी की वजह से वो 9 बजे से शुरु हुई. नितिन पटेल के अलावा कई और मंत्रिंयों के नाराज होने की खबर भी आ रही है. शुक्रवार रात हुई मीटिंग में कई कैबिनेट मंत्री सरकारी वाहन की जगह विरोध जताने के लिए अपनी पर्सनल गाड़ी से पहुंचे.

नितिन पटेल को मनाने के लिए गुजरात के सीएम विजय रूपाणी के घर पर हुई बैठक में सीएम, नितिन पटेल और जीतू वाघाणी मौजूद थे. इस बैठक में उन्होंने साफ कर दिया कि अगर उन्हें वित्त मंत्री नहीं बनाया गया तो उनके आत्मसम्मान को ठेस पहुंचेगी. इसके बाद वो अपने पद से इस्तीफा दे देंगे.

गौरतलब है कि 26 दिसंबर को गांधीनगर में हुए भव्य समारोह में विजय रुपाणी ने गुजरात के सीएम पद की शपथ ली थी. इस कार्यक्रम में खुद पीएम मोदी भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के साथ मौजूद थे. इस शपथ ग्रहण समारोह में जम्मू-कश्मीर की सीएम महबूबा मुफ्ती को छोड़कर सभी एमडीए के मुख्यमंत्री शामिल थे. बिहार के सीएम नीतीश कुमार भी इस कार्यक्रम में शामिल होने आए थे.

शपथ ग्रहण के बाद विजय रूपाणी ने अपनी कैबिनेट बनाने में लंबा समय लिया. इसकी वजह अमित शाह और पीएम मोदी का हिमाचल में सीएम पद के लिए मीटिंग में व्यस्त होना था. हिमाचल में जयराम ठाकुर की सीएम पद पर ताजपोशी के बाद गुरुवार रात को विजय रूपाणी ने अपने कैबिनेट की घोषणा की थी. विजय रूपाणी की सरकार में 20 लोगों को कैबनेट मंत्रालय दिया गया है. इसमें एक मात्र महिला कैबिनेट मंत्री हैं.

First published: 30 December 2017, 13:19 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी