Home » राजनीति » HM Rajnath Singh in Lok Sabha: The whole parliament is proud of Saifullah's father Mohammad Sartaj
 

संसद में बोले राजनाथ- सैफ़ुल्लाह के पिता मोहम्मद सरताज पर पूरे सदन को फख्र है

कैच ब्यूरो | Updated on: 9 March 2017, 13:28 IST
(ट्विटर)

केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने लोकसभा में लखनऊ में हुए एटीएस के ऑपरेशन पर बयान दिया. लोकसभा में राजनाथ सिंह ने मध्य प्रदेश में भोपाल-उज्जैन पैसेंजर ट्रेन ब्लास्ट और लखनऊ में मुठभेड़ के दौरान मारे गए सैफुल्लाह के बारे में बयान दिया. 

राजनाथ सिंह ने संसद में सैफुल्लाह के पिता मोहम्मत सरताज के बयान का जिक्र करते हुए कहा, "पूरा सदन सैफुल्लाह के पिता के प्रति सहानुभूति व्यक्त करता है और मैं भी करता हूं. बेटे की देशद्रोही हरकतों की वजह से उन्हें अपने बेटे को खोना पड़ा. सरकार और पूरे सदन को मोहम्मद सरताज पर फख्र है." 

ISIS की विचारधारा से प्रभावित था सैफुल्लाह!

लखनऊ के ठाकुरगंज इलाके में यूपी एटीएस ने कानपुर के सैफुल्लाह नाम के शख्स को 11 घंटे तक चले एनकाउंटर के बाद मार गिराया था. यूपी के एडीजी लॉ एंड ऑर्डर दलजीत चौधरी ने कहा था कि सैफुल्लाह के आतंकी संगठन आईएसआईएस से सीधे संपर्क के सबूत तो नहीं मिले हैं, लेकिन वह इंटरनेट के जरिए उनकी विचारधारा से प्रभावित था. 

मुठभेड़ में मारे गए सैफुल्लाह के पिता सरताज ने उसका शव लेने से इनकार करते हुए कहा था कि जो देश का न हुआ वह मेरा कैसे हो सकता है. उसने कोई सही काम तो किया नहीं. मुझे उसका मुंह नहीं देखना. सैफुल्ला ने मुझे शर्मिंदा कर दिया. हर किसी के लिए देश पहले है, लेकिन सैफुल्ला के लिए नहीं. जो देश का नहीं, वह मेरा क्या होगा."

एनआईए को सौंपी जांच

गृह मंत्री ने लोकसभा में कहा, "मध्य प्रदेश में भोपाल-उज्जैन पैसेंजर ट्रेन में विस्फोट हुआ, जिसमें 10 लोग घायल हुए. अज्ञात आरोपियों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की गई है. जांच में पता चला है कि विस्फोटक के लिए आईईडी का इस्तेमाल किया गया. जांच के लिए केंद्रीय एजेंसियों से संपर्क के बाद तीन संदिग्धों को गिरफ्तार किया गया. इसके आधार पर यूपी में छापेमारी की गई. इसके बाद सैफुल्ला की जानकारी मिली."

राजनाथ ने कहा, "सैफुल्ला को गिरफ्तार करने के प्रयास किए गए, लेकिन उसने आत्मसमर्पण नहीं किया. उसने एटीएस पर फायरिंग कर दी. कई घंटों की मुठभेड़ के बाद सैफुल्ला को मार गिराया गया. एटीएस ने कानपुर से भी एक संदिग्ध को गिरफ्तार किया है. इस पूरे घटनाक्रम में अब तक छह गिरफ्तारियां हुई हैं. मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश पुलिस ने तेज कार्रवाई की है. इस पूरे मामले की जांच एनआईए को सौंप दी गई है."

सैफुल्लाह के भाई खालिद ने बताया कि मुझे कभी उस पर शक नहीं हुआ. हम लोग नॉर्मल इंटरनेट का इस्तेमाल करते थे. हम अपने पापा के फैसले के साथ हैं. जिस परिस्थिति में सैफुल्ला पाए गए हैं उस हिसाब से हमें लगा कि इनका कुछ न कुछ मैटर होगा. हम खुद सोच में हैं कि दो ढाई महीने में किसने भाई का माइंड वॉश कर दिया.

एएनआई
First published: 9 March 2017, 13:28 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी