Home » राजनीति » BJP MP Varun Gandhi denied the charges of honey trap levelled by whistle blower
 

हनी ट्रैप के नए विवाद में वरुण गांधी, आरोपों को किया खारिज

कैच ब्यूरो | Updated on: 21 October 2016, 9:33 IST
(फाइल फोटो)

भाजपा सांसद वरुण गांधी अक्सर विवादों में रहते हैं. अब उन पर हनी ट्रैप में फंसने के आरोप लग रहे हैं. बताया जा रहा है कि अमेरिकी व्हिसल ब्लोअर सी एडमंड्स एलेन ने पीएमओ से इस मामले में शिकायत की है.

आरोपों के मुताबिक संसद की डिफेंस कमेटी का सदस्य रहते हुए वरुण गांधी आर्म्स डीलर अभिषेक वर्मा के हनी ट्रैप में फंसे थे. एलेन का कहना है कि वरुण गांधी ने कई संवेदनशील जानकारियां लीक की हैं.

आरोप है कि विदेशी लड़कियों और एस्कॉर्ट्स के जरिए वरुण को हनी ट्रैप में फंसाकर कुछ जानकारी लीक कराई गई. व्हिसल ब्लोअर एलेन के मुताबिक इसके पीछे विवादास्पद आर्म्स डीलर अभिषेक वर्मा का हाथ है.

पीएमओ को लिखी चिट्ठी में कहा गया है कि विदेशी एस्कॉर्ट महिलाओं तथा वेश्याओं के साथ खिंची वरुण की तस्वीरों के ज़रिए उन्हें ब्लैकमेल किया गया और हथियार निर्माताओं ने रक्षा मामलों से जुड़ी अहम जानकारियां वरुण से हासिल कीं.

राष्ट्रीय सुरक्षा से समझौते का आरोप

अमेरिका में बसे वकील एडमंड्स एलेन की ओर से यह चिट्ठी रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल को भी भेजी गई है.

16 सितंबर को भेजे खत में एलेन का आरोप है कि विवादास्पद हथियार विक्रेता अभिषेक वर्मा ने वरुण गांधी को इस्तेमाल किया, जिससे वह (वरुण) भारत सरकार से सौदे हासिल करने में जुटे हथियार निर्माताओं को रक्षा संबंधी जानकारी दे सके.

खास बात यह है कि 2012 में अलग होने से पहले अभिषेक वर्मा और सी एडमंड्स एलेन व्यापारिक साझीदार थे. एडमंड्स एलेन का कहना है कि संसदीय रक्षा समिति के सदस्य के रूप में वरुण गांधी ने ‘राष्ट्रीय सुरक्षा के साथ समझौता किया. 

नेवी वॉर रूम लीक में भी आरोपी अभिषेक

एडमंड्स एलेन और अभिषेक वर्मा के बीच जनवरी 2012 में साझेदारी खत्म हो गई थी. उस वक्त दोनों ने ही एक दूसरे पर मनी-लॉन्ड्रिंग, और धोखाधड़ी के आरोप लगाए थे.

अभिषेक वर्मा नेवी वॉर रूम लीक मामले में भी अभियुक्त हैं. आरोप है कि नौसेना से जुड़े संवेदनशील गोपनीय दस्तावेज ऐसे गुट द्वारा बेचे गए थे, जिसमें पूर्व तथा मौजूदा सैन्याधिकारी शामिल थे.

सी एडमंड्स एलेन भारतीय जांचकर्ताओं को अभिषेक वर्मा के खिलाफ कागज़ात देते रहे हैं. नेवी वॉर रूम लीक मामले में अभिषेक वर्मा को जेल भी भेजा गया था.

वरुण बोले- मानहानि केस करूंगा

बीजेपी सांसद वरुण गांधी ने एडमंड्स एलेन के आरोपों को साफ तौर पर खारिज कर दिया है. एक समाचार चैनल से बातचीत में वरुण ने कहा कि उन्होंने कोई संवेदनशील जानकारी लीक नहीं की है.

एलेन के आरोपों पर वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण ने भी गुरुवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस की. इस दौरान प्रशांत भूषण ने कहा कि पीएमओ को इस लीक के बारे में जानकारी थी, लेकिन अभी तक कोई कार्रवाई नहीं की गई.

वहीं प्रशांत भूषण के आरोपों पर वरुण गांधी का कहना है, "मुझे बदनाम करने की ओछी हरकत की गई है. मैं प्रशांत भूषण के खिलाफ आपराधि‍क मानहानि का केस दायर करूंगा."

हालांकि वरुण ने यह बात मानी कि वह अभिषेक वर्मा से मिल चुके हैं. वरुण ने कहा, "मैं अभ‍िषेक वर्मा को जानता हूं. उनके पिता कांग्रेस से राज्यसभा सांसद थे. मैं अभ‍िषेक की शादी में भी शामिल हुआ था. लेकिन जबसे मैं सार्वजनिक जीवन में आया हूं, अभ‍िषेक वर्मा के साथ मेरी कोई बातचीत नहीं हुई है."

सुल्तानपुर से बीजेपी सांसद ने कहा, "एडमंड्स एलेन ने मेरे ख‍िलाफ जो आरोप लगाए हैं, उसे लेकर सबूत साझा नहीं किए हैं. मैं पार्लियामेंट की डिफेंस कमेटी का सदस्य रहा हूं, लेकिन इस कमेटी के मेंबर के तौर पर मेरी किसी भी संवेदनशील जानकारी तक पहुंच नहीं रही."

वरुण गांधी ने यह भी कहा उन्होंने अभ‍िषेक वर्मा को किसी आर्म्स डीलर से नहीं मिलवाया. वहीं अभि‍षेक वर्मा ने भी इस मामले में सफाई देते हुए कहा है कि उन्होंने वरुण गांधी का कोई टेप रिकॉर्ड नहीं किया.

First published: 21 October 2016, 9:33 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी