Home » राजनीति » In Rose valley scam: arrested TMC MP says CBI Babul supriyo involved in scam
 

रोज वैली घोटाले में गिरफ्तार TMC सांसद ने केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो को भी लपेटा

कैच ब्यूरो | Updated on: 2 January 2017, 12:15 IST
(पीटीआई)

रोज वैली चिटफंड घोटाले में केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) के द्वारा गिरफ्तार तृणमूल कांग्रेस सांसद तापस पाल ने रविवार को इस घोटाले में केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो का भी नाम लिया है.

सीबीआई ने सांसद तापस पाल को चिटफंड घोटाले में कथित तौर पर शामिल होने के कारण बीते शुक्रवार को गिरफ्तार किया था.

गिरफ्तारी के बाद पाल ने कहा, "मैं निर्दोष हूं. मैं किसी भी तरह से घोटाले में शामिल नहीं हूं और सच्चाई शीघ्र सामने आएगी. मैंने सीबीआई के समक्ष बाबुल सुप्रियो और कुछ अन्य लोगों के नाम लिए हैं. सच्चाई सामने आएगी."

सीबीआई को कोर्ट ने पूछताछ के लिए तापस पाल को तीन दिन की रिमांड पर भेजा है. तृणमूल सांसद को 30 दिसंबर को कोलकाता में गिरफ्तार किया गया था और बाद में भुवनेश्वर यहां लाया गया.

यहा सीबीआई की विशेष अदालत ने कल तीन दिन की सीबीआई हिरासत में भेजा था. पाल के आरोपों पर मंत्री सुप्रियो की प्रतिक्रिया नहीं मिल पाई है.

वहीं भाजपा सचिव सुरेश पुजारी ने पाल के आरोपों को निर्थक बताया. पुजारी पार्टी के पश्चिम बंगाल प्रभारी भी हैं.

पुजारी ने यह भी कहा, "यह दावा करके सुप्रियो ने घोटाले में उन्हें बहकाया था, पाल ने साफ तौर पर मामले में अपनी संलिप्तता स्वीकार कर ली."

पाल ने कहा कि उन्होंने घोटाले में बड़ी संख्या में शामिल लोगों के नाम बताए हैं और जांच एजेंसी को सारी प्रासंगिक सूचना प्रदान की है.

इसमें ओड़िशा में रोज वैली लिंक से संबंधित लोग भी शामिल हैं. उन्होंने दावा किया कि उन्होंने कोई गलती नहीं की. सिने स्टार से नेता बने पाल ने कहा कि तृणमूल कांग्रेस उनके साथ है.

सीबीआई के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि पाल उस दागी चिटफंड समूह के निदेशकों में से एक थे, जिसने ओड़िशा, पश्चिम बंगाल और कुछ अन्य राज्यों में निवेशकों को कथित तौर पर ठगा था.

पाल पर कंपनी को प्रमोट करने और फर्म में धन जमा करने को लेकर लोगों को गुमराह करने का भी आरोप है. उनपर कंपनी में अपने परिवार के सदस्यों को वरिष्ठ पद देने का भी आरोप है.

First published: 2 January 2017, 12:15 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी