Home » राजनीति » Interesting twist in Goa: BJP offers to form government while Congress won more seats
 

गोवा में बनेगी किसकी सरकार, जब भाजपा-कांग्रेस दोनों हैं दावेदार

कैच ब्यूरो | Updated on: 12 March 2017, 17:01 IST

गोवा विधानसभा चुनाव में वहां की जनता ने किसी भी पार्टी पर पूरा भरोसा नहीं जताया है और परिणामस्वरूप वहां पर सरकार बनाने को लेकर कसमकस का माहौल बना हुआ है. लेकिन 17 सीटें हासिल करने वाली कांग्रेस के बाद 13 सीटें पाने वाली भाजपा ने भी सरकार बनाने का दावा ठोंका है.

आलम यह है कि गोवा में सरकार बनाने को लेकर भाजपा-कांग्रेस आमने-सामने आ गई हैं. गोवा कांग्रेस प्रभारी और पार्टी महासचिव दिग्विजय सिंह ने सरकार बनाने का प्रस्ताव दिया था. इसके बाद भारतीय जनता पार्टी के केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी गोवा पहुंच गए और सरकार बनाने की कोशिश में जुट गए.

40 विधानसभा सीटों वाली गोवा में कांग्रेस को सर्वाधिक 17 सीटें हासिल हुई हैं. भाजपा को 13, महाराष्ट्रवादी गोमंटक, गोवा फॉरवर्ड पार्टी और निर्दलीय को 3-3 जबकि नेशनलिस्ट कांग्रेस पार्टी को 1 सीट मिली है.

खबरों की मानें तो दिग्विजय सिंह ने कहा है कि कांग्रेस के पास 17 सीटें पहले ही हैं. तीन सीटें उनके समर्थकों ने जीती हैं और 1 निर्दलीय ने भी उन्हें समर्थन देने की हामी भरी है. इसलिए पूरी उम्मीद है कि चुनाव में सबसे बड़े दल के रूप में सामने आई कांग्रेस को सरकार बनाने का मौका मिले. एनसीपी समर्थक विधायक द्वारा भी उन्हें कथितरूप से समर्थन दिया गया है, इसलिए वे सोमवार को सरकार बनाने का दावा पेश करेंगे.

उधर, गोवा में सरकार बनाने की कांग्रेस की तैयारी को उस वक्त झटका लगा जब भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने 13 सीटें जीतने के बावजूद सरकार बनाने का दावा किया. सरकार बनाने की जोड़तोड़ करने के लिए नितिन गडकरी भी गोवा पहुंच गए है.

कहा जा रहा है कि गडकरी सभी दलों के विधायकों से संपर्क कर उन्हें मनाकर अपने साथ जोड़ने में सफल रहे हैं. रविवार को मनोहर पर्रिकर इस संबंध में राज्यपाल से मुलाकात करेंगे.

भाजपा मनोहर पर्रिकर की लीडरशिप में गोवा में सरकार बनाने की तैयारी में है. खबर है कि एमजीएम, गोवा फॉरवर्ड पार्टी और तीन निर्दलीय विधायकों ने भी भाजपा को समर्थन देने का आश्वासन दिया है. इसके बाद भाजपा भी सरकार बनाने का प्रस्ताव पेश करने के लिए 21 विधायकों की न्यूनतम संख्या पा लेने का दावा कर रही है.

अगर ऐसा होता है तो रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर को गोवा का फिर से मुख्यमंत्री बनाया जाएगा.

अब देखने वाली बात होगी कि राज्यपाल पहले किसे बुलाते हैं और संभवता कांग्रेस को ही पहले बुलाया जाएगा. कांग्रेस ऐसे में पूरी तरह से दावा पेश करने के लिए हर जोड़-तोड़ करेगी और भाजपा भी सरकार बनाने का मौका नहीं छोड़ना चाहेगी.

First published: 12 March 2017, 14:56 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी