Home » राजनीति » Watch Rahul Gandhi's full speech in Jan Vedna Sammelan of Congress
 

जन वेदना सम्मेलन: मोदी के ख़िलाफ़ आक्रामक राहुल ने 14 बार कहा 'डरो मत'

कैच ब्यूरो | Updated on: 12 January 2017, 10:02 IST
(ट्विटर)

बुधवार को दिल्ली में आयोजित कांग्रेस के जन वेदना सम्मेलन में राहुल गांधी ने पीएम मोदी के खिलाफ आक्रामक और अलग अंदाज़ में हमला बोला. दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में हुए इस सम्मेलन में राहुल ने एक दिन में दो बार पीएम मोदी को नोटबंदी से लेकर कई योजनाओं पर जमकर घेरा.

राहुल के संबोधन की खास बात रही उनका नया नारा- डरो मत. जन वेदना रैली में कांग्रेस उपाध्यक्ष ने पीएम मोदी के खिलाफ हमला बोलते हुए 14 बार डरो मत कहा. इस सम्मेलन में देशभर से पांच हजार से ज्यादा कांग्रेसी कार्यकर्ता शामिल हुए.

राहुल गांधी का ये नया अंदाज़ ट्विटर पर भी लगातार ट्रेंड करता रहा. राहुल ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए कहा, "हम मानते हैं कि इस देश की जनता को किसी चीज से डरने की ज़रूरत नहीं है. हम नफ़रत और डर की राजनीति को हराएंगे."

राहुल का नया अंदाज़

1. शिवजी, गुरु नानक और बुद्ध की फोटो में मुझे कांग्रेस का चिह्न दिखाई देता है. कांग्रेस के निशान का मतलब है, मौजूदा हालात से डरो मत, सामना करो. मेरा मीडिया के मित्रों से कहना है- डरो मत.

2. ये नए हिंदुस्तान की बात करते हैं. हम बेकार हैं क्या? एक ही आदमी बनाएगा भारत? बाकी सब बेवकूफ हैं. सिर्फ नरेंद्र मोदी ही सब कुछ सही कर सकते हैं? इस देश ने अंग्रेजों को भगाया है. डरो मत.

3. ये अक्लमंद देश है. हम चांद तक पहुंच चुके हैं. हम देश की सच्चाई को मानते हैं और उससे प्यार करते हैं. डरो मत.

4. अमिताभ बच्चन की फिल्म नमक हलाल का एक गाना है. राम-राम जपना, गरीब का माल अपना. यह सोच है सूट-बूट सरकार की और इसी सोच को हमें हराना है. डरो मत.

5. आरएसएस और बीजेपी की विचारधारा डराने की रही है. वह सोचते हैं कि वह डरा के भारत में सत्ता पर बने रह सकते हैं. डरो मत.

6. बीजेपी ने नोटबंदी, माओवाद और आतंकवाद के नाम पर डर फैलाया है. बीजेपी की नीतियां कहती हैं 'डराओ'. हम आपसे कहते हैं- डरो मत.

7. कांग्रेस की हजारों साल पुरानी सोच है डरो मत. इनका सामना करो. हिंदुस्तान के किसी नागरिक को डरने की जरूरत नहीं है. डरो मत.

8. यह दो विचारधाराओं की लड़ाई है. कांग्रेस की फिलॉसफी है 'डरो मत'. बीजेपी की फिलॉसफी है डरो और डराओ."  

9. हम इनसे नफरत नहीं करते. इनसे गुस्सा नहीं करते. हम इनकी विचारधारा को हराएंगे. इनसे डरने की जरूरत नहीं है.

First published: 12 January 2017, 10:02 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी