Home » राजनीति » Know about new revelation on Tamil Nadu CM Jayalalithaa claimed by media
 

जानिए एक महीने बाद कैसी है तमिलनाडु की सीएम जयललिता की सेहत?

कैच ब्यूरो | Updated on: 26 October 2016, 15:20 IST
(फाइल फोटो)
QUICK PILL
  • 22 सितंबर को तबीयत खराब होने के बाद से तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जयललिता अस्पताल में भर्ती हैं.
  • चेन्नई के अपोलो अस्पताल में उनका इलाज चल रहा है. एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक 28 सितंबर से वह वेंटिलेटर पर हैं.
  • जयललिता की बीमारी के बारे में डॉक्टरों ने कुछ भी साफ नहीं बताया है. यह भी कहा जा रहा है कि वह इशारों में बात कर रही हैं.
  • 68 साल की सीएम जयललिता के जल्द ठीक होने के लिए तमिलनाडु में दुआओं का दौर जारी है.

22 सितंबर को तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जयललिता को चेन्नई के अपोलो अस्पताल में भर्ती कराया गया था. उनकी सेहत को लेकर कई अफवाहें भी फैलीं, लेकिन कोई पक्की जानकारी बाहर नहीं आ सकी.

इस दौरान मद्रास हाईकोर्ट ने भी सेहत को लेकर अधिकारियों से रिपोर्ट मांगी. सीएम जयललिता की गैरमौजूदगी में राज्य का जिम्मा वित्त मंत्री पनीरसेल्वम संभाल रहे हैं. कैबिनेट बैठक के दौरान जयललिता की फोटो रखी गई.

इन सबके बीच जयललिता के प्रशंसक और समर्थकों की दुआओं का दौर जारी है. कहीं हवन हो रहा है तो कोई उपवास रख रहा है. प्रशंसक उनके जल्द से जल्द अस्पताल से बाहर निकलने की आस लगाए चिंतित नजर आ रहे हैं.

इस बीच एक हिंदी दैनिक ने जयललिता की सेहत पर रिपोर्ट प्रकाशित की है. उससे  कुछ अहम जानकारी सामने आई है. एक नजर इस रिपोर्ट के खास बिंदुओं पर:    

जयललिता का अब तक का हेल्थ कार्ड

  • 22 सितंबर को रात में 9 बजकर 45 मिनट पर अचानक अपने आवास पर मुख्यमंत्री जयललिता बेहोश गईं.
  • सीएम हाउस से चेन्नई के अपोलो अस्पताल के मालिक की बेटी प्रीथा रेड्‌डी के पास एक फोन आया. इसके फौरन बाद अपोलो अस्पताल के लिए एक एंबुलेंस रवाना हुई.
  • हालांकि अब तक यह नहीं बताया गया कि मरीज कौन है? एंबुलेंस के ड्राइवर को सीएम हाउस पहुंचने के निर्देश दिए गए.
  • 30 मिनट बाद जयललिता बेहोशी की हालत में अपोलो अस्पताल के आईसीयू में भर्ती थीं.
  • कहा जा रहा है कि जयललिता पहली बार अपोलो अस्पताल में भर्ती हुई हैं. इससे पहले वह रूटीन चेकअप के लिए तीन-चार महीने में चेन्नई के ही श्रीरामचंद्र मेडिकल कॉलेज जाती रही हैं.
  • 23 सितंबर को पीएम नरेंद्र मोदी ने दिल्ली से एम्स के तीन डॉक्टरों की टीम चेन्नई भेजी. कार्डियोलॉजिस्ट नितीश नाईक, पल्मोनोरोलॉजिस्ट जीसी खिलनानी और एनेस्थेशिस्ट अनजन त्रिखा इसमें शामिल थे.
  • वेबसाइट की रिपोर्ट के मुताबिक जयललिता को एक बार फिर माइनर हार्ट अटैक आया. उनका शुगर लेवल काफी ज्यादा था और ब्लड प्रेशर भी बढ़ा हुआ था.
  • रिपोर्ट में कहा गया है कि उन्हें पेसमेकर लगाया गया. 24 से 27 सितंबर के बीच का यह सारी घटनाक्रम है.  वेबसाइट के मुताबिक 28 सितंबर से उनकी सेहत और बिगड़ गई. मल्टिपल ऑर्गन समस्याएं भी सामने आने लगीं.
  • रिपोर्ट के मुताबिक जयललिता के किडनी, लीवर और फेफड़ों में इंफेक्शन हो गया और 28 सितंबर को को ही उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया.
  • इसके बाद अपोलो अस्पताल ने लंदन से डॉक्टर रिचर्ड जॉन बेले को बुलाया. सिंगापुर से आई डॉक्टरों की टीम भी जयललिता की सेहत पर नजर बनाए हुए है. ऐसा पहली बार है कि अपोलो ने बाहर से एक्सपर्ट बुलवाए हैं.
  • अपोलो अस्पताल के 18 डॉक्टरों की टीम चौबीसों घंटे उनकी देखरेख में जुटी है. क्रिटिकल केयर के डॉ. रमेश वेंकटरमन, डॉ. आर सेंथिलकुमार, डॉ. बाबू अब्राहम और कार्डियोलॉजिस्ट डॉ. वाईवीसी रेड्‌डी इसमें शामिल हैं.
  • जयललिता की गंभीर हालत को देखते हुए कई डॉक्टर आईसीयू के आसपास बने वीवीआईपी वॉर्ड में ही रह रहे हैं. 9 नर्सों की अलग-अलग शिफ्ट में ड्यूटी लगी है. यही नहीं किसी को फोन रखने की इजाजत नहीं है.
  • डॉक्टरों और नर्सिंग स्टाफ के फोन भी इंटेलिजेंस के सर्विलांस पर लगाए गए हैं. दो दिन पहले जयललिता की सेहत को जारी मेडिकल बुलेटिन में कहा गया, "शी इज इंटरेक्टिंग." यानी वह चेतन अवस्था में हैं.
जयललिता की सेहत पर जारी मेडिकल बुलेटिन में कहा गया, शी इज इंटरेक्टिंग यानी वो चेतन अवस्था में हैं.

वेबसाइट की रिपोर्ट के मुताबिक डॉक्टरों ने जयललिता के गले में एक नली लगाई है. इसी के जरिए वो तरल और ऑक्सीजन ले रही हैं. बताया जा रहा है कि नली के कारण बात करना मुमकिन नहीं है, लिहाजा वो इशारों में जवाब दे रही हैं.

न्यूज वेबसाइट में अपनी रिपोर्ट में दावा किया है कि जयललिता पैसिव फिजियोथेरेपी पर हैं. यानी वह अभी अपने हाथ-पैर हिला-डुला नहीं सकतीं. रिपोर्ट के मुताबिक लंदन से आए डॉक्टर ने जब उन्हें मुस्कुराने को कहा तो वो मुस्कुराई थीं. राज्य के अलग-अलग इलाकों में समर्थक उनके जल्द ठीक होने की उम्मीद लगाए बैठे हैं.

First published: 26 October 2016, 15:20 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी