Home » राजनीति » jayalalithaa lost election in 1996 due to my criticism: Rajinikanth
 

रजनीकांत: मेरी वजह से 1996 का चुनाव हारी थीं जयललिता

कैच ब्यूरो | Updated on: 12 December 2016, 11:03 IST
(ट्विटर)

तमिल सुपरस्टार रजनीकांत ने दिवंगत मुख्यमंत्री जयललिता को श्रद्धांजलि अर्पित की और उन्हें ‘कोहिनूर हीरा’ बताया, जिन्होंने पुरुष प्रधान समाज में मुश्किलों के बीच अपना रास्ता तैयार किया.

जयललिता और कलाकार से पत्रकार बने चो एस रामास्वामी के लिए साउथ इंडियन आर्टिस्ट्स एसोसिएशन या नाडिगर संगम द्वारा आयोजित शोकसभा में रजनीकांत ने 1996 के विधानसभा चुनाव के दौरान जयललिता के खिलाफ इस्तेमाल किए गए अपने कड़े शब्दों को भी याद किया, जिससे उन्हें (जयललिता को) बहुत दुख हुआ था.

उन्होंने तत्कालीन अन्नाद्रमुक सरकार की अपनी आलोचना का जिक्र करते हुए कहा, "मैंने उन्हें चोट पहुंचाई. मैं उनकी (पार्टी की) हार की मुख्य वजह था." रजनीकांत ने तब कहा था कि अगर जयललिता की अन्नाद्रमुक चुनकर फिर सत्ता में आई, तो भगवान भी तमिलनाडु को बचा नहीं सकता. तब द्रमुक नीत गठबंधन ने प्रबल सत्ताविरोधी लहर में चुनाव जीता था. 

जयललिता की शोकसभा में रजनीकांत ने कहा, "इस सबके बावजूद जयललिता ने उनकी बेटी की शादी में शिरकत की. काफी हिम्मत जुटाकर उन्होंने जयललिता को अपनी बेटी की शादी के लिए आमंत्रित किया था. जयललिता ने एक अन्य शादी में शिरकत करने की बात कही और उनकी बेटी की शादी में भी आने पर हामी भरी."

जयललिता का 5 दिसंबर को चेन्नई के अपोलो अस्पताल में रात 11:30 बजे निधन हो गया था. जयललिता 22 सितंबर से अपोलो अस्पताल में भर्ती थीं, उन्हें दिल का दौरा पड़ने के बाद आईसीयू में भर्ती कराया गया था. जयललिता को मरीना बीच पर एआईएडीएमके के संस्थापक और जयललिता के राजनीतिक गुरु एमजीआर की समाधि के पास ही दफना दिया गया था.

First published: 12 December 2016, 11:03 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी