Home » राजनीति » judges objections are heard seriously judge loyas death should be investigated said rahul gandhi in press confrence on supreme court judges
 

बोले राहुल गांधी: जजों का ऐतराज गंभीर मामला, जस्टिस लोया की मौत की कराई जाए जांच

कैच ब्यूरो | Updated on: 13 January 2018, 9:38 IST

सुप्रीम कोर्ट के जजों के प्रेस कांफ्रेंस के बाद कांग्रेस अध्‍यक्ष राहुल गांधी ने अपने आवास पर पार्टी नेताओं की बैठक बुलाई. इसमें कपिल सिब्‍बल समेत कई वरिष्‍ठ नेता शामिल हुए. इस विवाद पर राहुल गांधी ने कहा कि मामले को गंभीरता से लिया जाना चाहिए. सुप्रीम कोर्ट के जजों के ऐतराज को पूरी बेंच सुने. उन्होंने मीडिया के माध्यम से कहा कि मृतक जज बीएच लोया की मौत के केस की पूरी जांच होनी चाहिए.

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि उच्चतम न्यायालय के चार वरिष्ठ न्यायाधीशों ने जो सवाल उठाए हैं, वह बहुत गंभीर मामला है. इस पर पूरा ध्यान दिया जाना चाहिए. राहुल ने इस अप्रत्‍याशित घटना को परेशान करने वाला और अति-गंभीर बताया. कांग्रेस अध्यक्ष के घर हुई इस बैठक में कांग्रेस पार्टी के वे वरिष्‍ठ नेता शामिल हुए, जिनका कानून की क्षेत्र में साख है.

गौरतलब है कि कल सुप्रीम कोर्ट के चार वरिष्ठ जज देश के इतिहास में पहली बार मीडिया के सामने आए थे. उन्होंने चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया दीपक मिश्रा पर सवाल उठाते हुए कहा था कि सुप्रीम कोर्ट का प्रशासन ठीक तरह से काम नहीं कर रहा है. यदि संस्था को ठीक नहीं किया गया, तो लोकतंत्र खत्म हो जाएगा.

वरिष्ठतम न्यायाधीश जस्टिस जे चेलामेश्‍वर ने जस्टिस रंजन गोगोई, जस्टिस मदन लोकुर और जस्टिस कुरियन जोसेफ के साथ मीडिया से बात की. जस्टिस चेलामेश्वर का आरोप है कि चीफ जस्टिस जिन खास महत्व वाले मामलों को अपनी पसंदीदा बेंचों को भेज रहे थे उनमें जस्टिस बीएच लोया की संदिग्ध मौत की जांच का भी मामला है. ये मामला राजनैतिक तौर पर संवेदनशील है.

दरअसल, जस्टिस लोया की 2014 में अचानक दिल का दौरा पड़ने से मौत हुई थी. वे सोहराबुद्दीन फर्ज़ी एनकाउंटर मामले की सुनवाई कर रहे थे जिसमें बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह आरोपी थे. हालांकि बाद में वे बरी हो गए.

First published: 13 January 2018, 9:38 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी