Home » राजनीति » Kamal Haasan on Rafale deal, says There is suspicion and we should demand an investigation
 

राफेल डील पर कमल हसन का बड़ा बयान - हम आरोप नहीं लगा रहे, लेकिन हमें शक है

कैच ब्यूरो | Updated on: 28 September 2018, 12:51 IST
(file photo / ANI )

राफेल सौदे को लेकर देश में राजनीतिक भूचाल मचा हुआ है. कांग्रेस सहित तमाम विपक्षी पार्टियां राफेल सौदे को लेकर मोदी सरकार पर हमलावर हैं. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी लगातार पीएम मोदी पर इस डील को लेकर हमला बोल रहे हैं. विपक्ष लगातार इस सौदे में धांधली के आरोप लगा रहा है.

कांग्रेस सहित विपक्षी दल राफेल सौदे की जांच की मांग कर रहे हैं. वहीं, सरकार की तरफ से विपक्ष के आरोपों को खारिज किया जाता रहा है. राफेल पर मचे घमासान के बीच अभिनेता से नेता बने कमल हसन ने बड़ा बयान दिया है. उन्होंने कहा है कि वह राफेल सौदे को लेकर किसी पर आरोप नहीं लगा रहे हैं.  लेकिन उनको इस पर संदेह है. इसकी जांच होने चाहिए. 

एएनआई के मुताबिक, कलन हसन ने कहा है कि राफेल सौदा संदिग्ध लगता है. हमारी मांग है कि इसकी जांच कराई जाए. हम किसी पर आरोप नहीं लगा रहे हैं. हमें इस डील को लेकर संदेह है.

आपको बता दें कि राफेल को लेकर लगातार सत्ता पक्ष और विपक्ष की तरफ से बयानबाजी जारी है. इससे पहले एनपीसी प्रमुख शरद पवार ने राफेल मुद्दे को लेकर पीएम मोदी की नीयत को साफ बताया था.शरद पवार ने कहा था कि उनको नहीं लगता कि राफेल सौदे को लेकर किसी को भी मोदी सरकार की मंशा पर संदेह है. राफेल विमान से संबंधित तकनीकी जानकारियां साझा करने की विपक्ष की मांग में 'कोई तुक नहीं' है.

शरद पवार के इस बयान को लेकर एक बार फिर से राजनीति गरमा गई है. हालांकि एनसीपी प्रवक्ता ने शरद के बयान पर सफाई देते हुए कहा है कि एनसीपी प्रवक्ता नवाब मलिक ने पार्टी की इस मांग को दोहराया कि केंद्र सरकार लड़ाकू विमानों के दाम का खुलासा करे और इस मामले में संयुक्त संसदीय समिति (जेपीसी) की फिर से जांच हो. वहीं, दूसरी तरफ बीजेपी शरद पवार के बयान को भुनाने में लगीं हुई है.

ये भी पढ़ें-  शरद पवार ने राफेल सौदे पर दिया PM मोदी का साथ तो वरिष्ठ नेता तारिक अनवर ने छोड़ दी पार्टी

First published: 28 September 2018, 12:51 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी