Home » राजनीति » know about Mayawati's Brother Anand Kumar millionaire story
 

जानिए मायावती के भाई आनंद कुमार मामूली क्लर्क से कैसे बने कुबेर?

कैच ब्यूरो | Updated on: 25 May 2017, 17:09 IST
Anand Kumar

बहुजन समाज पार्टी की प्रमुख और यूपी की पूर्व सीएम मायावती के भाई आनंद कुमार एक बार फिर सूबे की सियासत में चर्चा का विषय बने हुए हैं. सूबे के सीएम योगी आदित्यनाथ की एक टिप्पणी के बाद आनंद चर्चा में आए हैं. उन पर आरोप है कि वह सहारनपुर दंगे के दौरान भीम आर्मी के संपर्क में थे.

वैसे मायावती के छोटे भाई पहले से विवादों में रहे हैं. उनको बैंक खाते में करोड़ों रुपये जमा करने के मामले में ईडी यानी प्रवर्तन निदेशालय ने नोटिस भी जारी किया था. मायावती ने हाल ही में अपने करीबी नसीमुद्दीन सिद्दीकी को पार्टी से निकालने से पहले आनंद कुमार को बहुजन समाज पार्टी का राष्ट्रीय उपाध्यक्ष भी बनाया है. आइए जानते हैं आनंद कुमार के क्लर्क से अरबपति बनने के सफ़र के बारे में:

 

नेटवर्क 18 की समाचार वेबसाइट hindi.news18.com के मुताबिक एक जांच रिपोर्ट में सामने आया था कि पूर्व सीएम मायावती के भाई आनंद कुमार वर्ष 2007 से पहले नोएडा अथॉरिटी में एक मामूली क्लर्क हुआ करते थे. 2007 तक वह लगातार अपनी नौकरी करते रहे. नौकरी के दौरान मीडिया ही नहीं राजनीतिक सुर्खियों से भी वो बहुत दूर थे.

जानकारों की मानें तो 2007 में जब आनंद कुमार नोएडा अथॉरिटी में नौकरी करते थे, तो उन्होंने एक कंपनी बनाई थी, लेकिन ईडी की एक जांच के दौरान सामने आया कि वर्ष 2014 तक आनंद ने 45 से ज्यादा कंपनियां खड़ी कर ली थीं.

ईडी और इनकम टैक्स के आरोपों के अनुसार जांच में खुलासा हुआ है कि वर्ष 2007 के दौरान आनंद कुमार के पास करीब 7.5 करोड़ रुपये की संपत्ति थी, लेकिन सात साल में वर्ष 2014 तक आनंद ने अपनी संपत्ति को बढ़ाकर 1316 करोड़ रुपये कर लिया था. 

इसके अलावा आनंद कुमार पर यह भी आरोप लगे है कि इन सात साल के दौरान पांच साल मायावती की सरकार रही थी. जांच के दौरान इस संबंध में आनंद का कहना था कि इस दौरान उनकी कंपनियों के मुनाफे में 18000 प्रतिशत का उछाल आया था.

First published: 25 May 2017, 16:50 IST
 
अगली कहानी