Home » राजनीति » Azam khan: It is very painful to know about PM Modi mother in queue for exchange note
 

जानिए पीएम मोदी की मां के लाइन में लगने पर विपक्ष की क्या है 'लाइन'?

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 February 2017, 1:36 IST
(एएनआई)

पीएम नरेंद्र मोदी की मां ने मंगलवार को बैंक जाकर पुराने नोट बदलवाए. इस मुद्दे पर सियासी प्रतिक्रियाएं भी आ रही हैं. उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी की सरकार में वरिष्ठ मंत्री आजम खान ने पीएम की मां हीराबेन के द्वारा पैसा बदलवाने के लिए लाइन में लगने को लेकर पीएम पर तंज कसा है.

आजम खान ने कहा, "मुझे पता होता कि पीएम की माताजी लाइन में लग रही हैं तो मैं खुद जाकर लग जाता, उन्‍हें लाइन में नहीं लगने देता." मंत्री आजम खान ने कहा, "ब्‍लैक मनी लेकर जो लोग बैंक आ रहे हैं, उन्‍हें अपना चेहरा काला कर लेना चाहिए."

वहीं दूसरी ओर आजम खान के विरोधी कांग्रेसी नेता फैसल लाला ने उन पर बीजेपी के साथ मिलकर अपनी ब्लैक मनी बदलने का आरोप लगाया है.

कांग्रेसी नेता फैसल ने अपने आरोप में कहा कि आजम खान ने जिला सहकारी बैंक के राजस्व से अपनी ब्लैक मनी बदली है और अपने ट्रस्‍ट के लिए इस्‍तेमाल किया है.

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कपिल सिब्बल ने नरेंद्र मोदी पर निशाना साधते हुए कहा, "कोई सपूत नहीं चाहेगा कि उसकी मां लाइन में खड़ी हो. मोदी जी की मां लाइन में लगीं, ये मुझे खराब लगा."

वहीं आम आदमी पार्टी के नेता और दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने इस मुद्दे पर कहा, "मोदीजी ने राजनीति के लिए मां को लाइन में लगाकर ठीक नहीं किया. कभी लाइन में लगना हो तो मैं खुद लाइन में लगूंगा, मां को लाइन में नहीं लगाऊंगा."

इसके साथ ही सपा से निष्कासित सांसद रामगोपाल यादव ने भी मोदी पर हमला करते हुए कहा, "प्रधानमंत्री को सोचना चाहिए कि जब उनकी मां को लाइन में लगने के लिए मजबूर होना पड़ा, तो सोचिए आम लोगों का क्या हाल होगा. स्थिति भयावह है."

आजम खान ने कहा है कि उन्हें पता होता कि पीएम की मां लाइन में लगी हैं, तो वह खुद लाइन में लग जाते.

आजम खान को लेकर लगाए गए अपने आरोपों के विषय में लाला फैसल ने पीएम मोदी और वित्त मंत्री अरुण जेटली और आरबीआई गवर्नर उर्जित पटेल से मामले की जांच की मांग की है.

फैसल लाला का कहना है कि जिला सहकारी बैंक के चेयरमैन सलीम कासिम सपा कार्यकर्ता हैं और आजम खान के काफी करीबी हैं. यही कारण है कि आजम खान ने जिला सहकारी बैंक का सारा रुपया जौहर यूनिवर्सिटी कैम्पस स्थित बैंक की ब्रांच में रखवा लिया. इसके बाद मंत्री आजम खान ने अपनी ब्लैक मनी बैंक में जमा कर जौहर ट्रस्ट के नाम करवा ली.

गौरतलब है कि मंगलवार को पीएम नरेंद्र मोदी की मां हीराबेन नोट बदली के लिए खुद चलकर गांधीनगर के ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स में पहुंची थीं.

बताया जा रहा है पुराने नोट बदलवाने के लिए उन्होंने बैंक में बाकायदा अपना फॉर्म भरा और अंगूठा भी लगाया. उनके साथ छोटे बेटे और नरेंद्र मोदी के भाई पंकज मोदी भी साथ थे.

दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने पीएम मोदी की मां के लाइन में लगने को राजनीति करार दिया है.
First published: 16 November 2016, 3:48 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी