Home » राजनीति » lalu prasad yadav found guilty in third case of chaibasa treasury fodder scam by cbi court ranchi
 

चारा घोटाले के तीसरे केस में भी लालू यादव दोषी करार

कैच ब्यूरो | Updated on: 24 January 2018, 12:10 IST

राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव चारा घोटाले के तीसरे केस में भी दोषी करार दिए गए हैं. इस मामले में पूर्व सीएम जगन्नाथ मिश्रा भी दोषी करार दिए गए हैं. इससे पहले दो मामलों में भी लालू यादव दोषी करार दिए जा चुके हैं. रांची की सीबीआई कोर्ट ने 23 दिसंबर और 3 जनवरी को भी लालू को चारा घोटाले के दो अलग-अलग मामलों में दोषी करार दिया था.

 

रांची की सीबीआई कोर्ट ने बुधवार को लगभग साढ़े 11 बजे लालू को चारा घोटाले के तीसरे मामले में सजा सुनाई. लालू यादव चारा घोटाले के 6 केस में तीन में दोषी करार दिए जा चुके हैं, जबकि तीन का फैसला आना अभी बाकी है. लालू यादव चारा घोटाले में सजा के कारण चुनाव नहीं लड़ सकते.

लालू यादव को दोषी ठहराए जाने के बाद लालू यादव के बेटे और बिहार के पूर्व डेप्युटी सीएम तेजस्वी यादव ने कहा, 'बिहार का एक-एक आदमी जानता है कि लालू को इस मुकदमे में फंसाया गया है. बीजेपी और नीतीश कुमार लालू को फंसाने में लगे हुए हैं. उन लोगों का बस एक ही टारगेट है कि किस तरह लालूजी को फंसाया जाए. बिहार के विकास के बजाय ये लोग लालू को दबाने में लगे हैं. यहां जनता में बहुत गुस्सा है, लेकिन यह अदालत का फैसला है और हम इसका सम्मान करते हैं. हम लोग हाईकोर्ट में अपील करेंगे.'

लालू यादव चारा घोटाले के देवघर कोषागार से जुड़े एक मामले में सजा पाने के बाद रांची के बिरसा मुंडा जेल में बंद हैं. चाईबासा मामले में बहस दस जनवरी को पूरी हो गयी थी और इस मामले में अदालत ने फैसला 24 जनवरी तक के लिए सुरक्षित कर लिया था. 

चारा घोटाले के इस मामले में दोषी करार

साल 1990 से 1994 के बीच देवघर कोषागार से 89 लाख, 27 हजार रुपये का फर्जीवाड़ा करके अवैध ढंग से पशु चारे के नाम पर निकासी के मामले में लालू समेत 22 लोग आरोपी हैं. सीबीआई ने 27 अक्तूबर, 1997 को इन सबके खिलाफ मुकदमा दर्ज किया था. 21 साल बाद इस मामले में शनिवार को फैसला आ रहा है. बिहार में हुए चारा घोटाले के वक्त लालू प्रसाद यादव बिहार के मुख्यमंत्री थे.

लालू यादव को चारा घोटाले के एक मामले में सज़ा हो चुकी है. लालू प्रसाद यादव को साल 2012 में 900 करोड़ रुपये के चारा घोटाले में चाईबासा कोषागार से 37 करोड़, 70 लाख रुपये की अवैध ढंग से निकासी करने के मामले मे 5 साल की सजा हो चुकी है. इस समय उन्हें सुप्रीम कोर्ट से इस मामले में जमानत मिली है.

12 दिसंबर, 2001 को 76 आरोपियों के खिलाफ न्यायालय में चार्जशीट दाखिल की गई थी. ट्रायल के दौरान ही 14 आरोपियों की मौत हो गई, वहीं तीन आरोपी सरकारी गवाह बन गए. दो आरोपियों ने दोष स्वीकार कर लिया है.

चाईबासा गबन के इस मामले में कोर्ट ने 56 आरोपियों में से 50 को दोषी ठहराया है. मामले में कुल 56 आरोपी ट्रायल का सामना कर रहे हैं. इसमें लालू यादव, बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री डॉक्टर जगन्नाथ मिश्रा सहित छह नेता शामिल हैं.

First published: 24 January 2018, 12:02 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी