Home » राजनीति » Lalu Yadav: If currency floating not normal after 50 days, PM Modi given his resignation
 

लालू यादव: 50 दिन बाद स्थिति नहीं सुधरी तो क्या मोदी इस्तीफ़ा देंगे?

कैच ब्यूरो | Updated on: 10 February 2017, 1:36 IST
(एजेंसी)

राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के अध्यक्ष लालू प्रसाद ने पीएम मोदी के द्वारा लागू की गई नोटबंदी के एक महीना पूरे होने के बाद एक बार फिर उन पर निशाना साधा है.

लालू यादव ने पीएम मोदी से सवाल किया है कि नोटबंदी के 30 दिन बीत चुके हैं, लेकिन स्थिति सामान्य नहीं हुई तो 50 दिन बीतने पर वादे के मुताबिक क्या मोदी प्रधानमंत्री पद से इस्तीफा देंगे या फिर अपना मुंह छिपाते फिरेंगे?

पूर्व केंद्रीय मंत्री लालू प्रसाद ने गुरुवार को ट्वीट करके नोटबंदी के लिए पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए कहा है, "भागते भूत की लंगोटी भली. नोटबंदी में मिट्टी पलीद होते देख प्रधानमंत्री काला धन का अलाप त्याग, अब 'कैशलेस' के पल्लू में छुप रहे हैं."

प्रधानमंत्री को नसीहत देते हुए लालू ने एक अन्य ट्वीट में लिखा, "मोदी जी, देश महानगरों से ही नहीं बना है. आपका यह अर्थव्यवस्था पर थोपा घातक प्रयोग गांवों में अन्न, जीवन, मृत्यु और भविष्य का प्रश्न बन गया है."

उन्होंने मोदी सरकार पर गांवों की समझ न होने का आरोप लगाते हुए एक अन्य ट्वीट में लिखा, "न प्रधानमंत्री, न उनके मंत्री, न आर्थिक सलाहकारों या नीति आयोग को गांवों की समझ है. ग्रामीणों की व्यथा को समझना तो बहुत दूर की कौड़ी होगी."

लालू यादव ने एक अन्य ट्वीट में इस बात का दावा किया कि नोटबंदी से देश में अब तक 90 लोगों की जान जा चुकी है.

उन्होंने कहा, "जो 90 लोग प्रत्यक्ष रूप से नोटबंदी की भेंट चढ़ गए वे क्या गैर मुल्की थे? उनके परिवार का भार कौन लेगा? प्रधानमंत्री के पास उनके लिए समय और शब्द भी नहीं है?"

पीएम मोदी के कैशलेश इकोनॉमी पर बरसते हुए लालू यादव ने कहा, "मोदी जी जानते हैं कि बमुश्किल 20 फीसदी भारतीय ही 'कैशलेस ट्रांजैक्शन' करने की स्थिति में हैं? ये बस नोटबंदी के दलदल से ध्यान हटाने का जुमला है."

First published: 9 December 2016, 11:54 IST
 
पिछली कहानी
अगली कहानी